कोई भारतीय विश्वविद्यालय टॉप में नहीं

  • 7 मार्च 2014
हॉर्वर्ड Image copyright

विश्व के शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों की टाइम्स हायर एजुकेशन पत्रिका की सूची में भारत के किसी भी संस्थान को जगह नहीं मिली है जबकि टॉप 10 शिक्षा संस्थानों में अमरीका के विश्वविद्यालयों का वर्चस्व है.

टाइम्स हायर एजुकेशन की सूची में शीर्ष 100 में 46 शिक्षा संस्थान अमरीका के ही हैं. इनमें ब्रिटेन के कुल दस विश्वविद्यालय हैं.

ब्रिटेन के कैम्ब्रिज और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालयों को चौथा और पांचवाँ स्थान दिया गया है.

ये रैंकिंग अकादमिक जगत से जुड़े लोगों के वोट के आधार पर तैयार की जाती है.

वर्ष 2014 के लिए वर्ल्ड रेपुटेशन रैंकिंग पिछले साल मई में हुए एक सर्वे के आधार पर तैयार हुई. जिसमें 133 देशों से 10,500 प्रतिक्रियाएं आईं.

अकादमिक जगत से जुड़े लोगों से कहा गया कि वे अपनी विशेषज्ञता वाले क्षेत्र की दृष्टि से 15 बेहतरीन संस्थानों को नामांकित करें.

हार्वर्ड विश्वविद्यालय टॉप पर रहा. इसके बाद मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय का नंबर रहा.

सूची में सबसे ज्यादा शिक्षा संस्थान अमरीका, जर्मनी और ब्रिटेन के हैं.

सुपर ब्रांड्स का वर्चस्व

Image copyright

रैंकिंग एडीशन के एडीटर फिल बैटी ने कहा कि सूची में सुपर ब्रांड्स शिक्षा संस्थानों का वर्चस्व है.

ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज के अलावा ब्रिटेन के जो आठ शिक्षा संस्थान शीर्ष 100 में जगह बना पाए, वे इस तरह हैं-

इंपीरियल कॉलेज लंदन (13वें नंबर पर)

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (24वें)

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (25वें)

किंग्स कॉलेज लंदन (43वें)

एडिनबरा (46वें)

मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी (51-60 के बैंड में)

लंदन बिजनेस स्कूल (91 से 100 के बैंड में)

लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रॉपिकल मेडिसिन (91 से 100 के बैंड में)

बैटी ने कहा, वर्ष 2011 में इस रैंकिंग की शुरुआत के बाद से पहली बार ब्रिटेन के तीन बड़े विश्व विद्यालय सौ प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थानों में जगह नहीं बना पाए.

भारत के पंजाब विश्वविद्यालय को 226 से 300 के बीच की रैंकिंग में जगह मिली है.

रैंकिंग के संपादक फिल बैटी ने कहा कि भारत, ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत और चीन) देशों और विकासशील आर्थिक शक्तियों का एकमात्र ऐसा देश है जिसकी एक भी यूनिवर्सिटी दुनिया की टॉप-100 में नहीं है. इस सूची में चीन की दो यूनिवर्सिटी हैं और दोनों ही शीर्ष 50 में शामिल हैं. जबकि रूस और ब्राजील की एक-एक यूनिवर्सिटी ने इसमें जगह बनाई है.

सूची में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) दिल्ली, कानपुर, खड़गपुर और रुड़की को काफ़ी नीचे स्थान मिला है. इन्हें 351-400 के सबसे निचले ग्रेड में रखा गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. 'आप' हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार