लापता विमान: चोरी के पासपोर्टों का 'आतंकवाद से संबंध नहीं'

मलेशिया का विमान इमेज कॉपीरइट Reuters

मलेशिया के पुलिस प्रमुख खालिद अबु बकर ने कहा है कि मलेशिया एयरलाइंस के लापता विमान पर चोरी के पासपोर्ट पर सफ़र करने वाला एक यात्री ईरान का था. पुलिस के अनुसार इस व्यक्ति के चरमपंथियों से संबंध होने की आशंका नहीं है.

चार दिनों पहले कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहे विमान पर अधिकारियों के मुताबिक़ दो लोग चोरी के पासपोर्ट पर यात्रा कर रहे थे.

खालिद अबु बकर ने कहा है कि ईरान के शहरी की उम्र 19 साल की थी. वह जर्मनी जा रहा था. उसे उम्मीद थी कि उसे जर्मनी में शरण मिल जाएगी.

उनका कहना था कि इस विमान के लापता होने के मामले में आतंकवाद का कोई मामला अभी तक सामने नहीं आ पाया है.

लेकिन अधिकारी का कहना था कि मामले में सभी पहलुओं की जांच पड़ताल की जा रही है. इसमें विमान का अपहरण किए जाने का पहलू भी ध्यान में रखा जा रहा है.

लापता विमान पर 239 यात्री थे और वो उड़ान भरने के कुछ घंटों बाद से ही लापता है.

अभी तक इस तलाश में किसी तरह की सफलता नहीं मिली है. खोजी दल मलक्का की खाड़ी में भी विमान की तलाश कर रहा है.

यूरोप में बसने की चाहत

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption मलेशिया के लापता विमान के एक यात्री की परिजन

अबु बकर ने बताया कि मलेशियाई अधिकारी जर्मनी में रह रही युवक की माँ से संपर्क में हैं. उनकी माँ जर्मनी के फ्रैंकफर्ट शहर में रहती हैं. उन्हें अपने बेटे का इंतजार था.

विशेषज्ञों का कहना है कि इन यात्रियों का विमान में होना सुरक्षा व्यवस्था को तोड़ने का मामला है लेकिन इस क्षेत्र में अवैध आप्रवासन के लिए जाना एक आम बात है.

मलेशियाई पुलिस अधिकारियों के बयान से बीबीसी को दिए गए एक अन्य ईरानी युवक की बात की पुष्टि हुई है. कुआलालंपुर में रहने वाले इस युवक ने बीबीसी से कहा था कि चोरी के पासपोर्ट के साथ विमान में यात्रा कर रहे दो युवकों में से एक उनके साथ स्कूल में पढ़ा था.

हालांकि युवक के इस बयान की पुष्टि नहीं हुई है. युवक का कहना था कि उनका दोस्त और एक अन्य ईरानी युवक चोरी के पासपोर्ट के साथ यात्रा कर रहे थे. यात्रा से पहले वे इस युवक के साथ रुके थे. वे लोग यूरोप में बसना चाहते थे.

थाईलैंड से मिली रिपोर्ट के अनुसार दोनों यात्रियों का टिकट थाईलैंड के एक एजेंट और ईरानी मध्यस्थ ने आरक्षित कराया था. ये लोग बीजिंग से होकर एम्सटर्डम जा रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार