जब एक फोन नंबर के लिए दिए 13 करोड़ रुपए

  • 18 मार्च 2014
यूएई फ़ोन

गाड़ियों से लेकर फ़ोन तक वीआईपी नंबर की चाह पुरानी नहीं है और कई देशों के साथ भारत में भी वीआईपी नंबरों की नीलामी होने लगी है. लेकिन एक वीआईपी नंबर के लिए कोई कितना पैसा दे सकता है?

अबु धाबी में एक वीआईपी नंबर के लिए 13 करोड़ रुपये से ज़्यादा दाम चुकाया गया है.

अबु धाबी में धर्मार्थ नीलामी में वीआईपी नंबर 777-7777 को 78,77,777 दिरहम (करीब 13.12 करोड़ रुपए) में ख़रीदा गया.

'नेशनल न्यूज़पेपर' के अनुसार मिडिल ईस्टर्न फ़ोन कंपनी एतिसालात के इस फ़ोन नंबर के साथ फ़ोन कंपनी ने एक बंपर पैकेज भी दिया है.

लेकिन इस सौदे में एक पेंच है. इतना महंगा नंबर ख़रीदने वाले अज्ञात ख़रीददार को दरअसल इस शानदार नंबर का मालिकाना हक़ नहीं मिलता है क्योंकि तकनीकी रूप से सभी नंबर सरकार के होते हैं.

बदल सकता है नंबर

मालिकाना हक़ के बजाय ख़रीददार को एतिसालात कंपनी का दो-साल का डायमंड प्लस पैकेज मिलेगा. इस पैकेज में 22,500 फ़ोन मिनट, 22,500 टेक्स्ट मैसेज और 100 जीबी डाटा हर महीने मिलेगा.

इसका मतलब यह हुआ कि इस नंबर से हर रोज़ 12 घंटे की बातचीत और 725 टेक्स्ट मैसेज किए जा सकते हैं. एतिसालात की वेबसाइट पर सामान्य वीआईपी पैकेज करीब 14,073 रुपये प्रतिमाह का है.

इस नंबर के अलावा नीलामी में दूसरे कम इच्छित नंबरों को भी रखा गया था. एक नंबर, 777-7770 करीब 2.8 करोड़ रुपये में बिका.

बहुत से ख़रीददार इस नीलामी से इसलिए दूर रहे क्योंकि फ़ोन नियामक ने कुछ दिन पहले ही चेतावनी दी थी कि वह किसी भी वक्त इन ख़ास नंबरों को बदल सकती है या वापस ले सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार