क्राईमिया: रूस का हिस्सा बनने के लिए जनमत संग्रह

क्रीमिया जनमत संग्रह इमेज कॉपीरइट AP

क्राईमिया रूस के साथ फिर से जुड़ने या यूक्रेन के साथ बने रहने के लिए स्वायत्तता के साथ मतदान कर रहा है.

जनमत संग्रह की यूक्रेन और पश्चिम के द्वारा "अवैध" कह कर निंदा की गई है लेकिन मास्को ने इसका समर्थन किया है.

यूक्रेन में मास्को के समर्थक राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के पतन के बाद से रूसी सैनिकों ने रूसी नस्ल के बहुमत वाले क्षेत्र पर नियंत्रण कर लिया है.

मतदाताओं से यूक्रेन छोड़ने के समर्थन की उम्मीद की जा रही हैं, लेकिन क्राईमिया का तातार समुदाय जनमत का बहिष्कार कर रहा है.

क्राईमिया की राजधानी सिम्फ़रोपोल में एक मतदान केंद्र से बीबीसी के बेन ब्राउन ने भारी मतदान की सूचना देते हुए बताया कि चुनाव शुरू होने के बाद पहले 10 मिनट में 100 लोग मतदान के लिए पहुंचें.

इससे पहले रूस ने चुनाव की आलोचना करने वाले संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के मसौदे पर वीटो लगाया. ऐसा केवल सुरक्षा परिषद के सदस्य ही कर सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका के मसौदे का परिषद 13 सदस्यों ने समर्थन किया था. कई मुद्दों पर रूस का सहयोगी माना जाने वाला चीन इस चुनाव में मतदान से बाहर रहा.

बीजिंग ने यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता के समर्थन की बात कही.

अमरीका और यूरोपीय संघ ने जनमत संग्रह को आगे चलाने पर रूसी अधिकारियों पर सख्त प्रतिबंध लागू करने की चेतावनी दी थी.

हस्तक्षेप

22 फरवरी को राष्ट्रपति यानुकोविच के पतन के बाद रूस ने क्राईमिया प्रायद्वीप में सरकारी इमारतों पर नियंत्रण कर और उनके ठिकानों पर यूक्रेन के सैनिकों को रोक कर हस्तक्षेप किया.

हालांकि, क्रेमलिन आधिकारिक तौर पर अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती से इनकार करता रहा है और उन्हें क्राईमिया के "सेल्फ डिफेंस बलों" के रूप में बताया हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

क्राईमिया भर में मतदान केंद्र स्थानीय समय के मुताबिक़ 08:00 बजे खुला और 12 घंटे बाद बंद हो जाएगा.

मतपत्र पर मतदाताओं से क्राईमिया को रूस में पुन: शामिल करने के बारे में पूछा जा रहा है.

एक दूसरा सवाल यूक्रेन को 1992 के संविधान के तहत अपनी स्थिति में वापस लाने के बारे में है जो क्षेत्र को अधिक स्वायत्तता प्रदान करेगा.

डेढ़ लाख मतदाता वोट डालने के पात्र हैं, और पहले नतीजे की जनमत संग्रह के बाद शीघ्र ही जारी होने की उम्मीद की जा रही हैं.

रूसी नस्ल के लोग क्षेत्र में (58.5%) स्पष्ट बहुमत में है, और उनमें से कईयों से रूस में शामिल होने के लिए वोट करने के लिए उम्मीद की जा रही हैं.

यूक्रेनी की संसद ने भी क्राईमिया के क्षेत्रीय असेंबली को भंग करने के लिए वोट दिया है.

इच्छा का सम्मान

इमेज कॉपीरइट AP

लेकिन रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने शुक्रवार को कहा, " मास्को क्राईमिया के लोगों की इच्छा का सम्मान करेगा ".

अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी के साथ लंदन में मैराथन वार्ता के बाद बोलते हुए लावरोव ने माना कि दोनों पक्षों के पास संकट को हल करने के बारे में "कोई आम दृष्टि" नहीं थी.

लावरोव ने कहा कि पड़ोसी देश की सीमा पर विशाल सैन्य तैनाती के बावजूद, रूस की दक्षिण पूर्वी यूक्रेन पर हमला करने की कोई योजना नहीं थी.

अमरीका और यूरोपीय संघ ने चेतावनी दी है कि क्राईमिया पर वोटिंग अंतरराष्ट्रीय कानून और यूक्रेनी संविधान का उल्लंघन है.

क्राईमिया 1954 तक रूस का हिस्सा था.

रूस का काला सागर बेड़ा अभी भी क्राईमिया में है. लेकिन मास्को ने यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता को बनाए रखने के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार