काबुल हमलाः भारतीय समेत नौ की मौत

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुवार रात एक पाँच सितारा होटल में हुए चरमपंथी हमले में कम से कम नौ लोग मारे गए हैं.

अफ़ग़ानिस्तान के उप गृह मंत्री जनरल मोहम्मद अयूब सलांगी ने बीबीसी को यह जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि मृतकों में चार महिलाएं, तीन पुरुष और दो बच्चे हैं. इनमें से चार विदेशी नागरिक हैं.

मारी गई महिलाओं में एक न्यूज़ीलैंड की और एक कनाडा की हैं जबकि पुरुषों में एक भारत और एक पाकिस्तान का है.

हमले में मारे गए बाक़ी लोग अफ़ग़ानिस्तान के हैं. साथ ही छह लोग घायल भी हुए हैं.

अफ़ग़ान अधिकारियों ने पहले दावा किया था कि होटल में रहने वाले सभी विदेशी मेहमान सुरक्षित हैं.

घटना

यह घटना गुरुवार रात को उस समय हुई जब बंदूक़धारी सेरेना होटल में दाख़िल होने में सफल हो गए.

सेरेना होटल विदेशी पर्यटकों के पसंदीदा होटलों में से एक है.

अफ़ग़ान गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि विशेष सुरक्षा बल की टुकड़ी की जवाबी कार्रवाई में चार हमलावर मारे गए थे.

प्रवक्ता ने बताया कि हमलावरों की उम्र 18 साल से कम थी और वे डिनर का बहाना बनाकर होटल में प्रवेश करने में सफल रहे थे.

तालिबान का कहना है कि इस हमले के पीछे उनका हाथ है.

कार्रवाई

इमेज कॉपीरइट AP

प्रत्यक्षदर्शियों ने बीबीसी को बताया कि घटना के बाद देश की ख़ुफ़िया एजेंसियों के विशेष बलों ने होटल को घेर लिया था. होटल राष्ट्रपति भवन और महत्वपूर्ण मंत्रालयों से महज़ एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

बताया जा रहा है कि हमलावर पिस्तौल छिपाकर होटल में ले जाने में सफल रहे और तीन घंटे तक होटल के स्पा क्षेत्र में छिपे रहे लेकिन जब उन्होंने हमला करने की कोशिश की तो जवाबी कार्रवाई में मारे गए.

महत्वपूर्ण है कि काबुल का सेरेना होटल शहर के सबसे सुरक्षित स्थानों में से एक है और ये विदेशी और अमीर अफ़ग़ान नागरिकों में बहुत लोकप्रिय है .

इससे पहले तालिबान ने कहा था कि वे देश में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में तोड़-फोड़ करेंगे.

सेरेना होटल में राष्ट्रपति चुनाव के लिए आए विदेशी पर्यवेक्षक रह रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार