पेरिस: 'दयनीय हालत' में थे भारतीय बच्चे

फ्रांस में तीन भारतीय बच्चे एक फ्लैट में बहुत ही दयनीय दशा में रह रहे थे. अधिकारी इन बच्चों की इस तरह से उपेक्षा करने वाले भारतीय माँ-बाप की जांच कर रहे हैं.

महिला ने नए साल वाले दिन ही एक बच्ची को जन्म दिया था और बच्ची के प्रति उसके अजीबो-गरीब व्यवहार को लेकर अस्पताल के लोग भी आश्चर्य में थे. अधिकारी उसके बाद से ही इस पूरे मामले की जांच कर रहे हैं.

इसके बाद उत्तरी पेरिस में कुछ स्वयंसेवी संगठनों से जुड़े लोगों ने इनके तीन, पांच और छह साल के बच्चों को एक फ्लैट में बेहद अमानवीय स्थिति में रहते हुए पाया.

देखने से ऐसा लग रहा था कि ये बच्चे अपने जीवन काल में कभी भी इस फ्लैट से बाहर नहीं निकले हैं.

सबसे बड़े दो बच्चों में कुछ शारीरिक दिक्कतें हैं और वो ठीक से बोल नहीं पाते हैं. ये ठीक से चल भी नहीं पाते हैं और इनका पोषण भी ठीक से नहीं हुआ है.

फ्लैट में इन बच्चों के रहने के लिए ठीक से इंतजाम भी नहीं था.

फरवरी महीने में इन चारों बच्चों को सरकी संरक्षण में ले लिया गया.

इसके अलावा इन बच्चों के 33 वर्षीय पिता और 27 वर्षीया माँ को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है. बच्चों के प्रति इस लापरवाही के लिए इन लोगों को सात साल की सज़ा मिल सकती है और इन पर एक लाख यूरो का जुर्माना भी लगाया जा सकता है.

मीडिया रहा अनजान

हालांकि ये बच्चे लंबे समय से इस हालत में रह रहे थे लेकिन फ्रांस की मीडिया में ये खबर इसी हफ्ते आई है.

बच्चों को देखकर लगता है कि इनमें से कोई न तो कभी स्कूल गया, न ही इन्हें बीमारियों से बचाने के लिए कोई टीका दिया गया और न ही कोई अन्य स्वास्थ्य संबंधी सुविधा मुहैया कराई गई है.

ये परिवार इस फ्लैट में पिछले छह साल से रह रहा है लेकिन इनके पड़ोसियों का कहना है कि उन्होंने इन बच्चों को कभी नहीं देखा.

इस मामले के सामने आने के बाद अब दो छोटे बच्चों की देखभाल उनके वास्तविक माँ-बाप कर रहे हैं जबकि बड़े बच्चों को विशेषज्ञों की देख-रेख में रखा गया है.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार