उनकी आँखों के सामने बोको हराम ने किए 50 क़त्ल

बोको हराम हमला इमेज कॉपीरइट Reuters

नाइजीरिया में सक्रिय इस्लामी चरमपंथी गुट बोको हराम ने एक 23 साल की महिला को अगवा कर लिया था. उनके सामने ही संगठन के सदस्यों ने 50 लोगों का क़त्ल किया. उन्होंने इस क्रूरता की दास्तान बीबीसी को सुनाई है.

महिला ने दावा किया कि बोको हराम के चरमपंथियों ने देश के सुदूर उत्तर पूर्व में 50 लोगों को मौत के घाट उतारा.

इनमें से ज़्यादातर लोगों की हत्या गला काट कर की गई.

चरमपंथियों द्वारा अगवा की गई एक अन्य किशोरी ने बताया कि उसे उनके एक साथी की हत्या करने के लिए मजबूर करने की कोशिश की गई.

अगवा की गई लड़की और महिला किसी तरह बोको हराम के चंगुल से निकलने में कामयाब हुई और अब छुप कर रह रही हैं.

इनमें से एक महिला ने कहा कि चरमपंथियों को आमतौर पर नाइजीरियाई सेना द्वारा की जाने वाले किसी भी संभावित कार्रवाई के बारे में पहले से जानकारी मिल जाती है और इससे उन्हें गुफाओं और कैमरून सीमा के पास के जंगलों में छिपने का मौक़ा मिल जाता है.

संभावित हमला

Image caption बोको हराम देश से मौजूदा सरकार का तख़्तापलट करना चाहता है.

नाइजीरियाई सेना का कहना है कि वर्तमान में बोको हराम इस बेहद चुनौतीपूर्ण इलाक़े से अपनी गतिविधियां चला रहा है.

इस्लामी चरमपंथियों ने क़स्बों और गांवों पर हमला करना जारी रखा है. पांच सौ से अधिक लोगों को इस साल के शुरुआती कुछ हफ़्तों में मारा जा चुका है.

बोको हराम नाईजीरिया की सरकार का तख़्ता पलटना चाहता है और उसे एक इस्लामिक देश में तब्दील करना चाहता है.

इस संगठन का आधिकारिक नाम 'जमात-अहले-सुन्ना-लिदावत-वल-जिहाद' है जिसका अरबी में मतलब हुआ 'जो लोग पैगंबर मोहम्मद की शिक्षा और जिहाद को फैलाने के लिए प्रतिबद्ध' हैं.

उत्तर-पूर्वी शहर मैदुगुरी में इस सगंठन का मुख्यालय था और यहां रहने वाले लोगों ने इसे बोको हराम नाम दिया.

बोको हराम ने साल 2009 में हिंसक आंदोलन शुरू किया था और अब तक सैकड़ों ईसाई और मुस्लिम इस हिंसा में मारे जा चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार