पहले वेश्यावृति कांड, अब 'नशे में धुत्त' ओबामा का सुरक्षाकर्मी

राष्ट्रपति बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट Reuters

राष्ट्रपति बराक ओबामा की सुरक्षा के लिए नीदरलैंड में लगाए गए अमरीकी ख़ुफ़िया सेवा के तीन एजेंटों को "अनुशासन संबंधी कारणों" से अमरीका वापस भेज दिया गया है.

अमरीकी अख़बार वाशिंगटन पोस्ट ने कहा है कि अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना कर रहे इन तीन एजेंटों में से एक को नशे में पाया गया.

अमरीकी ख़ुफ़िया सेवा के प्रवक्ता ने किसी भी तरह की जानकारी देने से मना कर दिया लेकिन ये कहा है कि उन्हें छुट्टी पर भेज दिया गया है.

यह घटना तब हुई है जब ख़ुफ़िया सेवा पुराने स्कैंडलों के बाद कमज़ोर हुई अपनी छवि को मज़बूत करने में लगी हुई थी.

साल 2013 में अमरीकी ख़ुफ़िया सेवा के दो सदस्यों को यौन शोषण और दुर्व्यवहार के मामले में ख़ुफ़िया सेवा से बर्ख़ास्त कर दिया गया था.

इसी तरह साल 2012 में कुछ सीक्रेट सर्विस एजेंटों को कोलंबिया में उजागर हुए वेश्यावृत्ति कांड के बाद बर्ख़ास्त कर दिया गया था.

राष्ट्रपति 'सुरक्षित'

इमेज कॉपीरइट AFP

ख़ुफ़िया सेवा के प्रवक्ता इद डोनोवान ने बताया है कि ताज़ा घटना राष्ट्रपति ओबामा के सोमवार को नीदरलैंड पहुंचने के पहले से पहले घटी है. अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा सोमवार को नीदरलैंड में होने वाले परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में शामिल होने आए थे.

डोनोवान ने आगे बताया कि तीनों सदस्यों को "अनुशासन संबंधी कारणों" से अमरीका भेज दिया गया है. उन्होंने आगे कुछ और बताने से इनकार कर दिया है.

प्रवक्ता ने ये ज़रूर बताया कि राष्ट्रपति की सुरक्षा के साथ किसी भी क़ीमत पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

अमरीकी अख़बार वाशिंगटन पोस्ट में छपी ख़बर के अनुसार सीक्रेट सर्विस के ये तीनों सदस्य राष्ट्रपति की सुरक्षा का ध्यान रखने वाली 'काउंटर असॉल्ट टीम' के लिए काम करते हैं और उनमें से एक सदस्य उस टीम के नेता हैं.

घटना की जानकारी रखने वाले सूत्रों का हवाला देते हुए अख़बार ने आगे बताया कि होटल के कर्मचारी ने सीक्रेट सर्विस के एक सदस्य को नशे में बेहोश पाया.

दो अन्य सदस्यों को भी अपराध में सहभागी माना जा रहा है क्योंकि उन्होंने उसे शराब पीने से रोका नहीं.

खोई हुई प्रतिष्ठा

इमेज कॉपीरइट Reuters

अप्रैल, 2012 में वेश्यावृत्ति कांड के सामने आने के बाद से विशिष्ट सुरक्षा बल अपनी खोई हुई प्रतिष्ठा वापस पाने की कोशिश में लगा हुआ था.

अमरीकी देशों के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए राष्ट्रपति बराक ओबामा के दौर से पहले कोलंबिया में कार्ताजेना के होटल में अमरीकी सीक्रेट सर्विस के कुछ एजेंटों और सैन्य कर्मियों ने वेश्याओं के साथ रात बिताई थी.

कार्ताजेना के होटल में अमरीकी प्रतिनिधि मंडल ठहरा हुआ था.

पिछले साल ओबामा ने अनुभवी एजेंट जूलिया पियर्सन को ख़ुफ़िया सेवा की पहली महिला निदेशक बनाया था.

फिर दिसंबर 2013 में दो ख़ुफ़िया सेवा के सदस्यों पर लगे यौन शोषण के आरोप में इंस्पेक्टर जनरल ने रिपोर्ट तैयार की थी जिसके अनुसार ख़ुफ़िया सेवा में यौन दुर्व्यवहार का मामले का कोई सबूत नहीं मिला.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार