दक्षिण कोरिया नौका हादसे में 100 से अधिक लोगों की मौत

दक्षिण कोरिया नौका हादसा, राहत और बचाव का कार्य इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण कोरिया में पिछले सप्ताह हुई नौका दुर्घटना में अब तक 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है.

नौका में सवार 104 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है लेकिन अभी भी 198 लोग लापता है जिनके नौका के भीतर फँसे होने की आशंका है.

सिवोल नाम की यह नौका उत्तर पश्चिम में इंचिओन से दक्षिण में जेजू द्वीप की ओर जा रही थी. हादसे के वक़्त नौका में 476 लोग सवार थे जिनमें ज़्यादातर स्कूली बच्चे थे.

नौका एक तरफ़ झुक गई थी और इसके बाद वह दो घंटे के भीतर डूब गई. अब तक कुल 174 यात्रियों को बचाया गया है.

इस मामले में चालक दल के सात सदस्यों को हिरासत में लिया गया है.

ख़बरों के मुताबिक़ यात्रियों को उनके कमरे और केबिन में ही रहने की सलाह दी गई थी, क्योंकि वहाँ एक गफ़लत वाली स्थिति थी कि यात्रियों को नौका छोड़ने का आदेश दिया जाए या नहीं.

'प्रियजनों का इंतज़ार'

समुद्र के किनारे हादसे में लापता लोगों के रिश्तेदार अपने प्रियजनों का हाल जानने के लिए इंतज़ार कर रहे हैं.

इस हादसे में बड़ी संख्या में बच्चों के शामिल होने के कारण दक्षिण कोरिया में लोग गहरे दुःख और शोक वाली स्थिति का सामना कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क गियून हाए ने चालक दल के सदस्यों के व्यवहार की आलोचना करते हुए, इसे "हत्या के समान" बताया है.

सेना के गोताखोर लापता लोगों की तलाश कर रहे हैं. जिंदो में मौजूद बीबीसी संवाददाता जोनाथन हेड ने बताया कि शवों को जिंदो द्वीप स्थित बंदरगाह पर लाया जा रहा है.

'जारी रहेगी तलाश'

गोताखोर नौका के कई केबिनों में प्रवेश कर चुके हैं, लेकिन अभी भी वे नौका के रसोईघर वाले हिस्से में पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं जहाँ अधिकतर यात्रियों के फँसे होने की बात कही जा रही है.

बीबीसी संवाददाता ने बताया कि नौका को सतह पर लाने के लिए एक रोबोट का इस्तेमाल किया जाएगा जो पानी के भीतर काम करने में सक्षम है.

बचाव दल के अधिकारियों का कहना है कि गोताखोर अगले दो दिन तक तलाश जारी रखेंगे और पीड़ितों के परिजनों ने उसके बाद नौका को सतह पर लाने का अभियान शुरू करने की सहमति दे दी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

जांचकर्ता जानने की कोशिश कर रहे हैं कि नौका के तेज़ी से मोड़ लेने के पीछे क्या कारण था और क्या समय पर नौका खाली करने के आदेश से लोगों की ज़िंदगी बचाई जा सकती थी.

नौका के कप्तान ली जून-सिओक और चालक दल के दो अन्य सदस्यों पर काम में लापरवाही बरतने और समुद्री क़ानून के उल्लंघन का आरोप लगाया गया है. सोमवार को चालक दल के चार अन्य सदस्यों को हिरासत में ले लिया गया था.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार