यूक्रेन को आईएमएफ़ से भारी भरकम मदद

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लैगार्ड इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लैगार्ड ने इस पैकेज की घोषणा की.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) ने यूक्रेन को आर्थिक संकट से निकलने के लिए 17.1 बिलियन डॉलर के आर्थिक पैकेज की मंज़ूरी दी है.

इस आर्थिक मदद की घोषणा उस वक़्त हुई है जब रूस और यूक्रेन के बीच सैन्य और राजनीतिक तनाव चरम पर हैं.

आर्थिक सहायता सख्त आर्थिक सुधारों मसलन टैक्स और ऊर्जा की कीमतों में बढ़ोतरी पर निर्भर है.

क़र्ज़ की पूरी राशि दो सालों में दी जाएगी. 3.2 अरब डॉलर की पहली किस्त तत्काल दी जाएगी.

आर्थिक सुधार

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लैगार्ड ने कहा, "आईएमएफ़ नियमित तौर पर इस बात की जाँच करता रहेगा कि यूक्रेन सरकार अपनी प्रतिबद्धताओं का पालन कर रही है या नहीं."

मार्च में यूक्रेन ने आर्थिक सहायता सुनिश्चित करने के प्रयास के तहत गैस की कीमतों में 50 फ़ीसदी की वृद्धि कर दी थी. सरकार न्यूनतम वेतन के लिए भी सहमत हो गई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

आर्थिक सहायता को मंज़ूरी देने वाले आईएमएफ के 24 सदस्यीय बोर्ड में एक रूसी प्रतिनिधि भी शामिल है.

आईएमएफ़ के इस क़र्ज़ की मंज़ूरी से यूक्रेन को विश्व बैंक, यूरोपीय संघ, कनाडा और जापान सहित अन्य दाताओं से मिलने वाले 15 अरब डॉलर के क़र्ज़ का रास्ता भी साफ़ होगा.

पिछले साल दिसंबर में, रूस यूक्रेन को 15 अरब डॉलर की आर्थिक सहायता देने पर सहमत हुआ था, लेकिन रूस समर्थक राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद इसे रद्द कर दिया गया.

प्रतिबंध

बुधवार को आईएमएफ ने चेतावनी दी कि रूस यूक्रेन संकट की वजह से हुए नुकसान के कारण 'मंदी का सामना' कर रहा है.

माना जा रहा है कि अमरीका और यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों की वजह से इस साल रूस को 100 अरब डॉलर का नुकसान होगा.

पिछले महीने यूक्रेन के क्राईमिया क्षेत्र पर रूस के कब्जा कर लेने के बाद उस पर आर्थिक प्रतिबंध लगा दिया गया था.

आईएमएफ़ की आर्थिक सहायता में एक अरब डॉलर की अमरीकी सहायता शामिल है जिसे हाल ही में अमरीका की संसद में मंज़ूरी दी गई है.

अमरीका के वित्त विभाग के सचिव जैकब ल्यू ने एक बयान में कहा, "आईएमएफ़ की ओर से 17 अरब डॉलर की अंतिम मंज़ूरी यूक्रेन के लिए मील का पत्थर साबित होगी."

इससे पहले बुधवार को लंदन में एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में यूक्रेन को संकट के दौरान हुए संपत्ति के नुकसान की भरपाई के लिए आर्थक मदद देने पर भी सहमति बनी थी.

यूक्रेन ने अपदस्थ राष्ट्रपति यानुकोविच और उनके सहयोगियों पर अरबों डॉलर के चोरी का आरोप लगाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार