क्लिंटन के साथ अफ़ेयर पर अफ़सोस: मोनिका लेविंस्की

मोनिका लेविंस्की इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

व्हाइट हाऊस की इंटर्न रहीं मोनिका लेविंस्की ने मीडिया में अब अपनी चुप्पी तोड़ी है. मोनिका के साथ अफ़ेयर के कारण तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन को महाभियोग का सामना करना पड़ा था.

वेनिटी फ़ेयर मैगज़ीन में प्रकाशित लेख में मोनिका लेविंस्की ने कहा है कि उन्हें अपने अफ़ेयर पर गहरा अफ़सोस है.

अपने रिश्ते को सहमति से बना रिश्ता बताते हुए लेविंस्की ने लिखा है कि राष्ट्रपति ने उनका फ़ायदा उठाया.

1998 में मोनिका लेविंस्की के साथ अफ़ेयर को मुद्दा बनाकर बिल क्लिंटन को राष्ट्रपति पद से हटाने में रिपब्लिकन पार्टी नाकाम हो गई थी.

लेकिन अब, जब बिल क्लिंटन की पत्नी हिलेरी क्लिंटन 2016 में राष्ट्रपति पद की दावेदारी की दौड़ में हैं, लेविंस्की प्रकरण एक बार फिर अमरीकी राजनीतिक चर्चाओं में उभर आया है. शायद इसलिए भी क्योंकि रिपब्लिकन अब इसे हिलेरी के ख़िलाफ़ इस्तेमाल करना चाहते हैं.

वेनिटी फ़ेयर पत्रिका ने लेविंस्की के लेख के जो अंश जारी किए हैं, उसमें लेविंस्की कहती हैं कि वो दोबारा अपनी कहानी सामने लाना चाहती हैं और उन्हें आज भी अमरीका में पहचाना जाता है और मीडिया और पॉप के ज़रिए वे अपना नाम देखती रहती हैं.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

बदनामी और शोषण

वे लिखती हैं, "मेरे और राष्ट्रपति क्लिंटन के बीच जो कुछ भी हुआ मुझे उस पर गहरा अफ़सोस है. मैं दोबारा ये बात कहती हूँ, जो कुछ भी हुआ मुझे उस पर बहुत अफ़सोस है."

लेविंस्की लिखती हैं कि 1998 में ये स्कैंडल सामने आने के बाद उन्हें बदनामी और शोषण से गुज़रना पड़ा. लेविंस्की मानती हैं कि राष्ट्रपति को बचाने के लिए उन्हें बलि का बकरा बना दिया गया.

लेविंस्की लिखती हैं, "क्लिंटन प्रशासन, विशेष अभियोजन के चमचे, पक्ष-विपक्ष के राजनीतिक कार्यकर्ता और मीडिया मेरी एक छवि बनाने में कामयाब हुए. और वो छवि बनी रही क्योंकि उस पर सत्ता शक्तियों का रंग चढ़ा दिया गया था."

नौकरियों में दिक़्क़त

राष्ट्रपति क्लिंटन का प्रशासन छोड़न के बाद मोनिका ने कुछ दिनों तक हैंडबैग डिज़ाइनर के तौर पर काम किया और फिर एक रियालिटी डेटिंग शो की होस्ट के रूप में.

इसके बाद वो स्नातक की डिग्री लेने के लिए लंदन चली गईं. मोनिका स्वीकार करती हैं कि अपने अतीत के कारण उन्हें अमरीका में नौकरियाँ मिलने में दिक़्क़त हुई.

बिल क्लिंटन से अफ़ेयर के वक़्त मोनिका लेविंस्की 22-23 साल की थीं. रिपब्लिकन पार्टी ने बिल क्लिंटन पर मोनिका लेविंस्की से अफ़ेयर को लेकर संघीय जाँचकर्ताओं से झूठ बोलने का आरोप लगाया. इसी आरोप में रिपब्लिकन पार्टी ने क्लिंटन के ख़िलाफ़ महाभियोग भी शुरू किया लेकिन नाकाम रहे.

बिल क्लिंटन ने अपना कार्यकाल पूरा किया और वे साल 2000 तक अमरीका के राष्ट्रपति रहे.

इसी बीच हिलेरी क्लिंटन इसी बीच सीनेटर चुनी गईं और राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में विदेश मंत्री भी रहीं. हिलेरी को फिलहाल 2016 राष्ट्रपति चुनावों के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी का संभावित दावेदार माना जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अतीत का मक़सद

रिपब्लिकन पार्टी के संभावित राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार माने जा रहे सीनेटर रैंड पॉल ने इसी साल कहा था, "बॉस को अपने दफ़्तर की युवा इंटर्न का शोषण नहीं करना चाहिए."

उन्होंने कहा, "बिल क्लिंटन ने अपने दफ़्तर में कार्यरत एक बीस वर्षीय इंटर्न का फ़ायदा उठाया. इस पर कोई बहाना नहीं चलेगा, यह हिंसक व्यवहार है."

अपने लेख में लेविंस्की ने लिखा है कि इतने सालों बाद वे अपनी चुप्पी तोड़ रहीं हैं ताकि अपने अतीत को एक मक़सद दे सकें.

वे लिखती हैं, "शायद अपनी कहानी कहकर, मुझे लगता है, मैं शर्मिंदगी से गुज़र रहे लोगों के बुरे वक़्त में उनकी मदद कर सकूं."

लेविंस्की अब ऑनलाइन शर्मिंदगी और शोषण का शिकार पीड़ितों के लिए काम करना चाहती हैं और इस विषय पर सार्वजनिक मंचों पर आवाज़ उठाना चाहती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार