कामवाली के बारे में ऐसी सोच? उफ़ !

कामवाली महिला इमेज कॉपीरइट Getty

एक ट्विटर अकाउंट ब्राज़ील में घरेलू कामगार महिलाओं के साथ होने वाले बुरे बर्ताव की ओर लोगों का ध्यान खींच रहा है.

पिछले हफ़्ते "माय मेड" (@A Minha Empregada) नाम के इस अकाउंट पर होने वाले कुछ ट्वीट इस तरह के रहे.

"मेरी कामवाली असल में मूर्ख है. कभी-कभी मैं महसूस करता हूं कि रसोई के चाकू से उसकी चर्बी काट दूं."

"एक बार शर्त जीतने के बाद मैंने एक काली औरत को चूमा और वह बिल्कुल मेरी कामवाली की तरह थी, लेकिन मोटी थी."

नस्ली समाज

ये ट्विटर अकाउंट इस तरह के उदाहरणों से भरा पड़ा है. ये ट्वीट दिखाते हैं कि देश में घरेलू कामगार महिलाओं के प्रति लोगों का रवैया कितना ख़राब है.

इस ट्विटर अकाउंट पर 8000 से ज़्यादा लोग मौजूद हैं.

इस ट्विटर अकाउंट को चलाने वाले ने बीबीसी ट्रेंडिंग को बताया, "मैं सोचता हूं यह दुनिया को दिखाने का सही वक़्त है कि हम एक नस्ली समाज हैं. मैं घरेलू कामगार महिलाओं और दूसरों के लिए बेहतर दुनिया बनाना चाहता हूं."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ब्राजील में 70 लाख घरेलू कामगार महिलाएं हैं, जो दुनिया में किसी भी दूसरे देश से ज़्यादा हैं.

ब्राजील में 70 लाख घरेलू कामगार महिलाएं हैं. ये दुनिया में किसी भी दूसरे देश से ज़्यादा हैं. अनुमान है कि इनमें आधे से अधिक काले हैं.

इनमें से अधिकतर देश के बदहाल उत्तर-पूर्व क्षेत्र से आती हैं. इन्हें काम पर रखने वाले मध्यम वर्ग के और शहरी लोग हैं.

अपमान

ब्रासीलिया में पत्रकार थीगो पीरूका का कहना है, "इस ट्विटर अकाउंट पर आने वाली टिप्पणियां 'चेहरे पर थप्पड़' की तरह हैं. मैं अच्छा महसूस नहीं कर रहा. मैं भी इसी तरह का हूं. मैं शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं लेकिन साथ ही मैं सोचता हूं कि मैं इसे सही कर सकता हूं. मैं यह सब कहना बंद कर सकता हूं."

पीरूका ने अपने कामवाली पर कभी नकारात्मक टिप्पणी नहीं की, मगर उनका कहना है कि उन्होंने दोस्तों के बीच अक्सर आपत्तिजनक टिप्पणियां की हैं. ब्राज़ील में कामवाली महिलाएं उपहास की पात्र बनी हुई हैं.

कामवाली महिलाओं के रिश्तेदार इन बातों से वाकिफ़ हैं.

एक कामवाली महिला की बेटी एलेन डायस ने कहा, "वह बुरे बर्ताव के बारे में अच्छी तरह जानती है."

उसकी मां को आलसी और मूर्ख कहा जाता है, लेकिन सोशल मीडिया पर सार्वजनिक रूप से अपमानजनक टिप्पणियों से वह अचरज में हैं.

उन्हें उम्मीद है कि इस मुहिम से सरकार पर असर होगा और वह घरेलू कामगार महिलाओं के लिए ज़्यादा अधिकार वाले क़ानून पारित करेगी.

इस ट्विटर अकाउंट को चलाने वाला व्यक्ति साउ पालो में रहते हैं लेकिन अपनी पहचान गुप्त रखना चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार