यूक्रेनः सैन्य हेलिकॉप्टर मार गिराया, जनरल की मौत

  • 29 मई 2014
यूक्रेन के अलगावादी लड़ाके इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस समर्थक लड़ाकों ने पूर्वी यूक्रेन में सेना के एक हेलिकॉप्टर को मार गिराया है. इस हमले में यूक्रेन की सेना के एक जनरल समेत 12 जवान मारे गए.

यह हमला उस समय हुआ जब हेलिकॉप्टर से सुरक्षाबलों को विद्रोहियों के कब्ज़े वाले कस्बे स्लोवियांस्क के पास सैन्य शिविर ले जाया रहा था.

विद्रोहियों की कार्रवाई में पायलट की मौत

यूक्रेन के राष्ट्रपति के रूप में जल्द ही अपना कार्यकाल समाप्त करने जा रहे अलेक्जेंडर तुर्शीनोव ने कहा कि विद्रोहियों ने रूस निर्मित एंटी एयरक्राफ्ट सिस्टम का इस्तेमाल किया.

बीबीसी संवाददाता मार्क लोवेन के अनुसार ये घटनाएं यूक्रेन के नए राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेंको के लिए भारी चुनौती साबित होने वाली हैं और जबसे यूक्रेन ने विद्रोहियों के ख़िलाफ़ सैन्य अभियान छेड़ा है, तबसे यूक्रेन सेना को लगा सबसे बड़ा झटका है.

पिछले हफ़्ते स्लोवियांस्क से 130 किमी दूर सेना के एक चेक प्वाइंट पर विद्रोहियों के हमले में कम से कम 14 जवान मारे गए थे.

पोरोशेंको ने वादा किया था कि विद्रोहियों को खत्म करने में उन्हें महीनों नहीं कुछ घंटे लगेंगे.

स्लोवियांस्क के पास सरकारी सुरक्षाबलों और रूस समर्थक अलगाववादियों के बीच भीषण लड़ाई चल रही है. सोमवार को विद्रोहियों ने दोनेत्स्क हवाईअड्डे पर कब्ज़ा करने की कोशिश की थी लेकिन सेना ने फिर से उस पर कब्ज़ा कर लिया.

दूसरा हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त

इमेज कॉपीरइट

यूक्रेन में रूस समर्थक अलगावादी नेता ने एक अन्य हेलिकॉप्टर के मार गिराए जाने का दावा किया है.

अलगावादी नेता व्याशेस्लाव पोनोमारियोव ने कहा, ''जिन लोगों ने जनरल को ले जाते हुए हेलिकॉप्टर को मार गिराया है, मैंने उनसे अभी-अभी बात की है. गोला दागने के बाद हेलिकॉप्टर सीधे क्रामातोर्स्क इलाके में जा गिरा.''

यूक्रेन संकट: अमरीका ने कहा हिंसा 'अस्वीकार्य'

अलगाववादी नेता ने कहा, ''एक अन्य हेलिकॉप्टर पर भी निशाना साधा गया था, जिसमें आग लग गई और वह भी दुर्घटनाग्रस्त हो गया. उसमें भी कुछ लोग सवार थे. हम इस बारे में पता कर रहे हैं कि उसमें कितने लोग सवार थे.''

इस बीच, रूस ने यूक्रेन से विद्रोहियों के ख़िलाफ़ सैन्य अभियान को तत्काल बंद करने और बातचीत शुरू करने की दोबारा अपील की है.

रूस के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर अमरीका और यूरोपीय संघ से अपील की है कि वो संकट को ख़त्म करने के लिए कीव पर दबाव डालने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल करें.

उधर, हथियारबंद लोगों द्वारा अगवा किए गए चार यूरोपीय प्रेक्षकों की रिहाई को लेकर भी बातचीत चल रही है. गत सोमवार को ही इन प्रेक्षकों को अगवा किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार