नाइजीरिया: बोको हराम हमले में 45 लोगों की मौत

नाइजीरिया, बोको हराम, चरमपंथी संगठन इमेज कॉपीरइट AP

संदिग्ध चरमपंथी संगठन बोको हराम ने नाइजीरिया के उत्तर पूर्वी शहर मेदुगुरी में एक गांव पर हमला किया है जिसमें कम से कम 45 लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

हमले में बचे हुए लोगों ने बीबीसी को बताया कि हमला करन से पहले बोको हराम के हमलावरों ने गांववालों को कहा कि वे उन्हें उपदेश देने आए हैं.

अधिकारियों और स्थानीय लोगों का कहना है कि हफ़्ते की शुरूआत में ही सिलसिलेवार हमलों में अबतक 200 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं.

नाइजीरिया: धमाकों में 118 की मौत, कई घायल

हालांकि देश में एक साल से लगे आपातकाल में मेदुगुरी और आसपास के इलाक़े ऐसे हमलों से बचे हुए थे.

लेकिन अब आमतौर पर देश के दूरस्थ इलाक़े भी हमले की चपेट में आने लगे हैं.

अप्रैल में बोको हराम द्वारा 200 स्कूली लड़कियों के अपहरण के बाद नाइजीरियाई सरकार पर देश के भीतर और बाहर दोनों ही तरफ़ से बोको हराम के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करने के लिए काफ़ी दबाव पड़ रहा है.

नाइजीरिया में क्या है बोको हराम?

नाइजीरिया को एक इस्लामिक देश बनाने की मांग के साथ साल 2009 में बोको हराम ने नाइजीरियाई सरकार के ख़िलाफ़ हिंसक अभियान की शुरूआत की थी जिसमें तब से अब तक हज़ारों लोग मारे जा चुके हैं.

धोखा

इमेज कॉपीरइट ap

बीते बुधवार की रात चरमपंथी संगठन बोको हराम के सदस्य मेदुगुरी विश्वविद्यालय के बाहरी इलाक़े में बसे बरदरी गांव में पहुंचे और लोगों को कहा कि वे एक जगह इकट्ठा हो जाएं. हमलावरों ने कहा कि वे उन्हें धार्मिक उपदेश देने आए हैं. लेकिन तुरंत ही उन्होंने लोगों के उपर गोलियां चलानी शुरू कर दी.

जानकारों के मुताबिक़ गांव में दाख़िल होने के बाद संदिग्ध चरमपंथी ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को एक जगह जमा करने के लिए अलग-अलग तरीक़े अपना रहे थे.

अग़वा लड़कियों के लिए रैलियां निकालने पर रोक

इससे पहले बीते मंगलवार को बोर्नो राज्य के अट्टागारा गांव पर हुए हमले में भी कुछ ऐसा ही हुआ था. गांव में कुछ बंदूक़धारी सेना की वर्दी पहने घूस आए थे. लोगों को भ्रम हुआ कि ये सैनिक हैं और उससे पहले रविवार को हुए हमले के बाद उनकी सुरक्षा के लिए वहां आए हैं.

अट्टागारा उन छ गांवों में से एक है जहां माना जाता है कि 200 लोगों की मौत हो चुकी है.

चरमपंथी झंडा

इमेज कॉपीरइट Getty

स्थानीय सांसद पीटर बियी ने बीबीसी को बताया कि स्थानीय लोग जैसे ही चर्च के अहाते में इक्ट्ठा हुए बंद़ूक़धारियों ने उनपर हमला करना शुरू कर दिया.

उनका मानना है कि हमले में मारे गए लोगों का सही आंकड़ा बता पाना बहुत मुश्किल है. क्योंकि जो भी जान बचाने में सफल हुए वे पास के पहाड़ी इलाक़े में छिप गए और शवों की गिनती करने वाला भी कोई नहीं था.

बताया जा रहा है कि मंगलवार को हमले के बाद बोर्नो राज्य के कई गांवों में बोको हराम के झंडे लगे हुए दिखाई दे रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार