बिक रहा है ज़रदारी का सरे महल

ज़रदारी इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ब्रितानिया के सरे इलाक़े में मशहूर इमारत 'रॉकवुड एस्टेट' जिसे पाकिस्तान में सरे महल के नाम से जाना जाता है अगले महीने नीलाम होने जा रहा है जिसके बाद इसे गिराए जाने का इमकान है.

ये घर एक ज़माने में पाकिस्तानी सियासत में गर्मागरम चर्चा का केंद्र रहा है क्योंकि एक दौर में इस के मालिक पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी रह चुके हैं.

ऐसा कोई रिकॉर्ड मौजूद नहीं है जिससे पता चलता हो कि बेनज़ीर भुट्टो या आसिफ़ अली ज़रदारी कभी इस घर में रहे हों.

इस एस्टेट की क़ीमत लगभग एक करोड़ पाउंड है.

बेनज़ीर भुट्टो और आसिफ़ अली ज़रदारी जब 1990 में भ्रष्टाचार के मुक़दमों का सामना कर रहे थे तो उन्होंने इसके स्वामित्व को स्वीकारने से इंकार कर दिया था.

2004 में अचानक आसिफ़ अली ज़रदारी ने ये स्वीकार किया कि ये उनकी संपत्ति है और 2005 में इसका स्वामित्व बदल गया लेकिन 2005 से इसका इस्तेमाल रहने के लिए नहीं किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

दिलचस्प इतिहास

स्थानीय रियल एस्टेट एजेंट निक फ्रीथ का कहना है कि इस महल का एक दिलचस्प इतिहास है.

दो सितंबर 2013 को यूट्यूब पर अपलोड किए गए एक वीडियो में देखा जा सकता है कि इस महल में एक ट्रांस संगीत की पार्टी आयोजित की गई थी जबकि ब्रितानी अख़बार 'मेल ऑनलाइन' में इस जगह होने वाली ' प्राइवेट सेक्स पार्टियों' के बारे में भी पिछले साल ख़बर प्रकाशित की गई थी.

फ्रीथ का कहना है कि हर क़िस्म की अजीबोग़रीब पार्टियाँ यहाँ होती रही जो कुछ वक़्त यहाँ रहे किराएदारों की ओर से की जाती थीं.

उन्होंने कहा, "मुझे नहीं लगता कि यहाँ कोई ग़ैर-क़ानूनी काम होता था बल्कि सभी अच्छा वक़्त गुज़ार रहे थे."

ये घर 1910 में बनाया गया था और अभी तक इसकी शुरुआती बनावट के कुछ हिस्से बाक़ी हैं जैसे कि लकड़ी के पैनलों वाला अध्ययन कक्ष.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बाद में इसमें तांबे का दरवाज़ा लगाया गया जो फ्रीथ के मुताबिक़ मध्यपूर्व से लाया गया था.

फ्रीथ के मुताबिक़ ये घर बहुत अच्छी हालत में है लेकिन इसे नए ज़माने के मुताबिक़ करने में कई हज़ार पाउंड का ख़र्च आएगा.

इस घर के साथ संबद्ध एक 360 एकड़ ज़मीन पर बनी एक हवाई पट्टी भी है.

इस घर को ख़रीदने के लिए ख़रीदार सुदूर पूर्व, मध्य पूर्व, अमरीका और ब्रिटेन से दिलचस्पी दिखा रहे हैं लेकिन देखना ये है कि चार जुलाई को होने वाली नीलामी में कौन इसे ख़रीदता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार