कीनियाः चरमपंथी हमले में 48 की मौत

केन्या के पेकेटोनी में चरमपंथी हमला इमेज कॉपीरइट AP

कीनिया के तटीय शहर म्पेकेटोनी में अधिकारियों के अनुसार एक पुलिस स्टेशन और होटल पर हुए संदिग्ध इस्लामी चरमपंथी हमले में कम से कम 48 लोगों की मौत हो गई है.

म्पेकेटोनी के प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि कई घंटों तक गोलीबारी चलती रही और चरमपंथियों ने कई इमारतों में आग लगा दी.

म्पेकोटोनी जाने-माने पर्यटक स्थल लामू द्वीप के नजदीक बसा हुआ शहर है.

कीनिया ने 2011 में जब से सोमालिया में चरमपंथी संगठन अल शबाब से लड़ने के लिए अपने सैनिक भेजे हैं, वहां लगातार धमाके और हमले हो रहे हैं.

नैरोबी में बीबीसी संवाददाता यूसुफ दायो ने जानकारी दी है कि यह हमला रविवार को स्थानीय समय के अनुसार रात 20.30 बजे (17:30 जीएमटी) हुआ है. उन्होंने बताया कि उस समय स्थानीय लोग टीवी पर विश्व कप फुटबॉल देखने में व्यस्त थे.

अल-शबाब हमला

स्थानीय नागरिकों ने बीबीसी को बताया कि बंदूकधारियों ने पहले एक गाड़ी चुराई और फिर उसकी मदद से म्पेकेटोनी में जगह-जगह हमले किए.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बंदूकधारी नकाब पहने हुए थे और उन्होंने स्थानीय पुलिस स्टेशन पर पहले बम विस्फोट किया फिर वहां से हथियारों की चोरी की.

इमेज कॉपीरइट KTN kenya

अल-शबाब की ओर से और हमलों की चेतावनी दी गई थी, जिसके बाद कीनिया में पिछले कई दिनों से हाई अलर्ट जारी है. अल-शबाब सोमाली चरमपंथियों के एक संगठन का नाम है.

अमरीका और ब्रिटेन ने इन हमलों को देखते हुए अपने नागरिकों को कीनिया के तटीय इलाकों से दूर रहने की चेतावनी दी है.

समाचार एजेंसी एएफपी ने जिला उपायुक्त बेनसन मैसोरी के हवाले से बताया है कि म्पेकेटोनी में होटल, रेस्तरां, बैंक और सरकारी इमारतों सहित कई इमारतों में आग लगा दी गई है.

इमेज कॉपीरइट KTN kenya

मोम्बासा में मौजूद पत्रकार बोज़ो जेनजे ने बीबीसी को बताया है कि आस-पास के निवासियों ने शहर की सड़कों पर इधर-उधर बिखरे शवों की जानकारी दी है.

सेना के प्रवक्ता मेजर इमैनुएल चिरचिर का कहना है कि निगरानी करने वाले एयरक्राफ्ट को इस इलाके में सुरक्षा अभियान में मदद के लिए भेजा गया है.

नैरोबी से बीबीसी की कैरोलीन कारोबिया ने बताया कि कीनिया के राष्ट्रपति उहरू केनयट्टा ने सुरक्षा की नई स्थितियों पर चर्चा करने के लिए आंतरिक मामलों के मंत्री जोसेफ ओले लेंकू और पुलिस प्रमुख डेविड किमाएयो को बातचीत के लिए बुलाया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार