इराक़ में कम से कम 40 भारतीय लापता: रिपोर्ट

इराक़ संकट इमेज कॉपीरइट AP

इराक़ में सुन्नी चरमपंथी संगठन आईएसआईएस के क़ब्ज़े वाले मोसूल शहर में क़रीब 40 भारतीयों के लापता होने की ख़बर है.

आईएसआईएस के लड़ाकों ने गत दस जून को इस शहर पर क़ब्ज़ा कर लिया था.

समाचार चैनल एनडीटीवी के मुताबिक़ विदेश मंत्रालय ने बताया है कि मोसूल में रह रहे 40 भारतीयों से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है.

चैनल ने विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन के हवाले से बताया, "हमारी जानकारी के मुताबिक़ मोसूल में 40 भारतीय हैं. उनसे कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है. हमारी भरपूर कोशिशों के बावजूद अभी तक हम उनसे संपर्क स्थापित नहीं कर सके हैं."

भारतीयों के अपहरण की ख़बरों पर उन्होंने कहा, "ऐसी कोई ख़बर नहीं है जिसमें भारतीयों को निशाना बनाया गया हो या उनके ख़िलाफ़ कोई हिंसा हुई हो."

एनडीटीवी के मुताबिक़ ये सभी लोग एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करते हैं.

भारत ने इराक़ में फंसे लोगों के लिए 24 घंटे की एक हेल्पलाइन शुरू की है और अपने नागरिकों को सुरक्षित निकालने की कोशिश कर रहा है.

आशंका

इमेज कॉपीरइट Reuters

एनडीटीवी के मुताबिक़ तिकरीत में भी 100 भारतीय मज़दूरों के फंसे होने की आशंका है.

शुक्रवार को तिकरीत में फंसी 46 भारतीय नर्सों ने केरल सरकार को वहाँ से निकालने के लिए संदेश भेजा था.

इराक़ में फंसी एक भारतीय नर्स मरीना जोस ने एनडीटीवी को बताया, ''हमें अस्पताल में क़ैद कर लिया गया है. केरल में अपने परिवार से संपर्क करना मुश्किल हो रहा है. हम काफ़ी डरे हुए हैं क्योंकि यहाँ कोई सुरक्षा नहीं है. यहां से पुलिस, सुरक्षा बल सभी भाग चुके हैं सिर्फ हम ही यहाँ बचे हुए हैं.’’

केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से आग्रह किया है कि वे इराक़ में फंसी केरल की नर्सों और दूसरे भारतीयों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तत्काल हस्तक्षेप करें.

इराक़ में कम से कम 10 हज़ार भारतीयों के मौजूद होने का अनुमान है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार