'योनि' में जा फँसा एक अमरीकी छात्र!

इमेज कॉपीरइट IMGUR ERICKGUZMAN

जर्मनी में एक दिलचस्प वाकया तब सामने आया जब एक अमरीकी छात्र एक ख़ास प्रतिमा के बीच में फंस गया है.

जर्मनी की तुबिंगेन यूनिवर्सिटी में बनी यह प्रतिमा योनि के आकार की है. तो इस तरह ये छात्र पत्थर की योनि के बीच ही फंस गया था.

जर्मनी के समाचार पत्र श्वाबिशेस टाग्बला के मुताबिक इस छात्र को बचाने के लिए पांच अपातकालीन वाहन और 22 अग्निशमन कर्मियों की मदद लेनी पड़ी.

(चोरों से छूटे भीम, दुर्योधन और बलराम)

इमेज कॉपीरइट IMGUR ERICKGUMAN

इरिक गुजमैन नाम के एक व्यक्ति ने एक फोटो शेयरिंग वेबसाइट पर लड़के की तस्वीरों को शेयर किया है.

गुजमैन के मुताबिक, "मैं वहीं था...वह लड़का सिर्फ़ एक मज़ाकिया तस्वीर लेना चाहता था. उसकी इस हरक़त से अग्निशमन दल नाराज़ था और वह लड़का काफ़ी शर्मिंदा."

प्यार की प्रतिमा

राहतकर्मियों के मुताबिक अमरीकी छात्र मूर्ति में घुसने की कोशिश करते फँस गया था. यह मूर्ति पेरू के कलाकार फर्नांडो डि ला जारा ने बनाई है.

(कला का मंदिर, समुद्र के अंदर)

इमेज कॉपीरइट ERICKGUMAN

इस मूर्ति को तुबिंगेन यूनिवर्सिटी के माइक्रो बॉयलॉजी और वायरोलॉजी विभाग के सामने 2001 में स्थापित किया गया था. इसका नाम 'पाइ-चाकन' है. पेरू की भाषा में इसका मतलब 'यौन संबंध बनाना' होता है.

अनुमान के मुताबिक यह मूर्ति 30 टन वजन की है. इसकी कीमत करीब एक लाख बीस हज़ार यूरो (करीब 1.2 करोड़ रुपये) आंकी गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)