प्रथम विश्व युद्ध: पहली चिंगारी - आर्चड्यूक की हत्या-3

आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड, डचेज़ सोफ़ी इमेज कॉपीरइट AP. HISTORICAL ARCHIVES SARAJEVO
Image caption (सारायेवो के हिस्टोरिकल आर्काइव्स से मिली इस तस्वीर में आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड और उनकी पत्नी डचेज़ सोफ़ी के संदिग्ध हत्यारे हैं.)

आज से ठीक 100 साल पहले 28 जून 1914 को ऑस्ट्रिया-हंगरी साम्राज्य के उत्तराधिकारी आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड अपनी पत्नी के साथ बोस्निया में साराएवो के दौरे पर थे. वहाँ उनकी और उनकी पत्नी की हत्या कर दी गई जिसके बाद शुरू हुआ वो घटनाक्रम जो प्रथम विश्व युद्ध कहलाया.

बीबीसी आपके लिए लाया है 28 जून 1914 की सुबह का घटनाक्रम और कुछ मुख्य पल (प्रथम विश्व युद्ध: पहली चिंगारी - आर्चड्यूक की हत्या-2) :-

स्थानीय समय 1028

आर्चड्यूक को यह कहते हुए सुना गया कि घटना को गंभीरता से न लिया जाए. उन्होंने कहा, "यह व्यक्ति पागल है. हम लोग पूर्वनिर्धारित कार्यक्रम को जारी रखेंगे."

1032

आर्चड्यूक और सोफ़ी सिटी हॉल में पहुंचे.

इस शाही युगल का स्वागत करने के लिए साराएवो के ईसाई, मुसलमान और यहूदियों के गणमान्य लोग पहुंचे थे.

(सौ साल पहले सारायेवो में आर्चड्यूक फ़्रांज़ फ़र्डिनेंड की हत्या के ऐतिहासिक क्षणों को बीबीसी ने यहां प्रस्तुत किया है. सौ साल पुरानी यह घटना आज के श्रोताओं-पाठकों के लिए आधुनिक न्यूज़ रिपोर्टिंग की तकनीकों के ज़रिए इस तरह से बताई गई है जैसे आज का न्यूज़ मीडिया उसे कवर करता.)

आर्चड्यूक को स्वागत समारोह में भाग लेना था और सोफ़ी को मुसलमान अधिकारियों की बीवियों से मिलना था.

मेयर चूयर्चिच आर्चड्यूक से ज़रा ही पहले पहुंचे. वह कारों के काफ़िले की पहली गाड़ी में थे. फिर वह शाही युगल से समारोह में औपचारिक रूप से मिलने के लिए उनका इंतज़ार करने लगे.

1035

उधर विस्फोट के स्थल पर पुलिस ने कई गिरफ़्तारियां कर ली थीं. लेकिन यह पता नहीं चल पाया था कि उन लोगों में से कोई बम फेंकने वाला व्यक्ति भी था या नहीं.

1040

बाद में विस्फोट स्थल में घायल एक अधिकारी, जिनका नाम कर्नल एरिक वॉन मरीत्ज़ी था, को गैरिसन अस्पताल ले जाया गया.

विस्फोट स्थल पर सेना के सर्जन पहुंच चुके थे. पुलिस ने इलाक़े को ख़ाली करवाना शुरू कर दिया था.

(प्रथम विश्व युद्ध: पहली चिंगारी - आर्चड्यूक की हत्या-1)

1046

सिटी हॉल में आर्चड्यूक गणमान्य व्यक्तियों से मिल रहे थे.

1052

शुरुआती ख़बरों के अनुसार पुलिस ने कहा कि उन्होंने आर्चड्यूक पर हमले के सिलसिले में एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया. संदिग्ध 19 साल का एक बोस्नियाई सर्ब था, जिसका नाम नेडल्को कब्रीनोविच था.

उसे पुलिस स्टेशन में रखा गया था. उसकी एक तस्वीर जारी कर दी गई थी.

1054

सिटी हॉल में कार्यक्रम समाप्त होने वाला था. शाही युगल सिटी हॉल से निकल रहे थे. दौरे का अगला पड़ाव राष्ट्रीय संग्रहालय था.

1055

बाद में अधिकारियों ने आर्चड्यूक के कार्यक्रम में एक बदलाव का ऐलान किया. उन्हें और उनकी बीवी को गैरिसन अस्पताल में घायलों को देखने जाना था, जिनमें कर्नल मरीत्ज़ी भी शामिल थे.

1056

इमेज कॉपीरइट AP. HISTORICAL ARCHIVES SARAJEVO
Image caption (आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड और उनकी पत्नी का संदिग्ध हत्यारा गैवरिलो प्रिंत्सिप)

कारों का काफ़िला सिटी हॉल से निकला और तेज़ रफ़्तार से आगे बढ़ा. ऐसा लगता था कि कुछ अतिरिक्त सुरक्षा इंतज़ाम भी किए गए थे. सेना के एक अधिकारी को कार के रनिंग (फ़ुट) बोर्ड पर खड़ा कर दिया गया था ताकि आर्चड्यूक का बचाव कर सकें.

1100

तभी ख़बर आई कि लटाइनर ब्रिज के पास गोलियां चली हैं. यह जगह सिटी हॉल से 300 मीटर दूर थी.

1101

ख़बर आई कि आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड को गोली लग गई है.

1102

गोलीबारी एप्पल घाट और फ्रांज़ जोसेफ़ गली के किनारे हुई.

1106

ख़बरों में कहा गया कि आर्चड्यूक की कार एप्पल घाट के साथ-साथ दक्षिण की ओर तेज़ी से गई.

1108

आर्चड्यूक की स्थिति का पता नहीं चल पा रहा था.

1110

पुलिस गोलीबारी के स्थल पर पहुंची. उधर भीड़ कुछ लोगों के बीच हिंसा शुरू हो गई.

1114

बाद में पुलिस ने भीड़ को एक युवक पर हमला करने से रोका.

1118

बाद में एक व्यक्ति को गिरफ़्तार कर लिया गया. भीड़ में मौजूद लोगों का दावा था कि उसने आर्चड्यूक को गोली मारी थी.

यह पता नहीं चल पाया था कि उसका पहले हुए बम विस्फ़ोट या इस हमले से कोई संबंध था या नहीं.

1122

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि एक ग़लत मोड़ लेने के बाद आर्चड्यूक की कार मुड़ने की कोशिश कर रही थी.

बंदूकधारी को आगे बढ़ते और फिर नज़दीक से दो गोलियां मारते हुए देखा गया.

1124

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि आर्चड्यूक सीधे बैठे हुए थे जबकि उनकी पत्नी आगे की ओर झुकी हुई थीं.

1128

अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की कि आर्चड्यूक और उनकी पत्नी को गवर्नर ऑस्कर पोट्यिरेक के आधिकारिक निवास, द कोनाक, ले जाया गया. लेकिन उनकी स्थिति के बारे में कुछ स्पष्ट नहीं था.

1130

द कोनाक, में आर्चड्यूक और डचेस का मेडिकल स्टाफ़ इलाज कर रहा था.

1130

द कोनाक में दो पादरियों को जाते हुए देखा गया.

1132

पूरे साराएवो में घंटी की गूंज सुनाई देने लगी.

1133

तभी ख़बर आई कि ऑस्ट्रिया के आर्चड्यूक और डचेस की मौत हो चुकी है.

एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की कि आर्चड्यूक फ्रांज़ फ़र्डिनेंड और उनकी पत्नी सोफ़ी गोलियां लगने से मारे गए हैं.

1140

इमेज कॉपीरइट AP. HISTORICAL ARCHIVES SARAJEVO
Image caption आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड, उनकी पत्नी डचेज़ सोफ़ी और उनके तीन बच्चे

आर्चड्यूक फ़्रांज़ फ़र्डिनेंड (50), और होहेनबर्ग की डचेस सोफ़ी (46), की मौत की घोषणा.

1146

बम हमले में गिरफ़्तार कब्रीनोविच ने पुलिस को बताया कि बम को एक अचिन्हित 'संगठन' से हासिल किया गया था. उसने आगे कुछ भी कहने से इनकार कर दिया और यह भी नहीं बताया कि वह हत्या की किसी व्यापक योजना का हिस्सा था या नहीं.

1150

ख़बर आई कि पुलिस ने संदिग्ध हत्यारे की गिरफ़्तारी की पुष्टि की है.

पुलिस ने संदिग्ध का नाम गैवरिलो प्रिंत्सिप बताया. उसे पुलिस स्टेशन में रखा गया था.

यह साफ़ नहीं हो सका था कि दोनों हमलों का आपस में कोई संबंध था या नहीं.

1154

पुलिस ने मामले में गैवरिलो प्रिंत्सिप को संदिग्ध बताया.

1158

ख़बर आई कि प्रिंत्सिप की गिरफ़्तारी के दौरान एक पुलिस अधिकारी घायल हो गया था.

1203

एक प्रत्यक्षदर्शी, डनीलो प्यूसिलि, गोलियां चलाए जाने के समय आर्चड्यूक की कार के पास ही खड़ा था.

प्यूसिलि का दावा था कि इसके बाद उन्होंने हत्यारे का कॉलर पकड़ लिया था. उन्होंने कहा, "मैंने सोचा कि उसका गला घोंट दूं, लेकिन फिर, मैंने ऊपर वाले (भगवान) के बारे में सोचा, और अपनी इस इच्छा को त्याग दिया."

1209

सिटी हॉल में 10.10 पर मौजूद एक दर्शक, जो उस कार्यक्रम में मेहमान थे, ने बताया कि आर्चड्यूक लंबे क़दम भरते हुए इमारत में दाखिल हुए थे. लेकिन उन्होंने जोड़ा कि यह 'अजीब' लगा क्योंकि "मुझे लगता है कि वह यह दिखाने की कोशिश कर रहे थे कि वे डरते नहीं हैं."

1212

उस शुक्रवार के दौरे को लेकर किए गए सुरक्षा इंतज़ामों पर सवाल ज़रूर उठे.

जब 1910 में सम्राट फ़्रांज़ जोसेफ़ साराएवो के दौरे पर गए थे तो 28 जून के मुक़ाबले उनके सुरक्षा इंतज़ाम कई गुना कड़े थे. पूरे रास्ते में सैनिक खड़े थे और शहर में दाख़िल होने वाले हर व्यक्ति को छह घंटे के भीतर अपना नाम दर्ज करवाने का आदेश था.

बाद में शाही युगल की एक तस्वीर सामने आई. जिसे उस घातक गोलीबारी से कुछ वक़्त पहले ही लिया गया था.

आर्चड्यूक के एड (सहायक), काउंट फ़्रैंक हैरैख़, जो हमले के वक्त आर्चड्यूक के साथ खड़े थे, ने आर्चड्यूक और सोफ़ी के अंतिम क्षणों के बारे में बताया:

हैरेख़ ने बताया कि गोलियां चलने के बाद उन्होंने देखा कि "ख़ून की पतली धार महामहिम के मुंह से निकली और मेरे दाएं गाल पर गिरी." हैरेख़ जैसे ही आर्चड्यूक की सहायता को दौड़े, डचेस चीखीं – ‘तुम्हें क्या हो गया?’ - और फिर वह अपनी सीट पर गिरीं और अपना चेहरा अपने घुटनों में छुपा लिया.

उन्होंने बताया, "मुझे बिल्कुल अंदाज़ा नहीं था कि उन्हें भी गोली लग गई है और सोचा कि वह दहशत के कारण बेहोश हो गई हैं. लेकिन फिर मैंने महामहिम को कहते सुना, 'सोफ़ेरल, सोफ़ेरल, मत मरो. अपने बच्चों के लिए ज़िंदा रहो!'"

लेफ़्टिनेंट कर्नल हैरैख़ ने कहा, "मैंने आर्चड्यूक को कॉलर से थामा, ताकि उनका सिर आगे की ओर न गिरे और उनसे पूछा कि क्या उन्हें बहुत तकलीफ़ हो रही है. उन्होंने मुझे बहुत साफ़-साफ़ कहा, 'नहीं, ये तो कुछ भी नहीं!'"

उन्होंने कहा, “उनका चेहरा थोड़ा टेढ़ा होने लगा लेकिन वह बार-बार (6-7 बार, धीरे-धीरे जैसे-जैसे वे चेतना खो रहे थे) दोहराते रहे - 'नहीं, ये तो कुछ भी नहीं!’ फिर कुछ समय के बाद, ख़ून के रिसाव के साथ गला घुटने की आवाज़ आई और जब तक हम कोनाक पहुंचे वो आवाज़ बंद हो गई थी.’’

1230

द कोनाक में आर्चड्यूक और डचेस के पार्थिव शरीर दर्शनार्थ रख दिए गए.

पूरे शहर में झंडों को आधा झुका दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)