बीबीसी टीवी न्यूज़ हुआ 60 साल का

रिचर्ड बेकर इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बीबीसी न्यूज़ का पहला बुलेटिन पढ़ते हुए रिचर्ड बेकर.

आज से ठीक 60 साल पहले पांच जुलाई 1954 को बीबीसी ने अपना पहली टीवी न्यूज़ बुलेटिन प्रासारित किया था.

पहला बुलेटिन रिचर्ड बेकर ने पढ़ा था. लेकिन उन्हें टीवी स्क्रीन पर दिखने में तीन साल और लगे.

शुरुआत में चिंता ये थी की टीवी स्क्रीन पर दिखने वाला चेहरा गंभीर समाचारों से लोगों का ध्यान हटा सकता है.

सितंबर 1960 में बीबीसी पर पहली बार 'टेन ओ क्लॉक' बुलेटिन प्रसारित हुआ.

इसके बाद अगले सालों में 'वर्ल्ड एट वन', 'न्यूज़ रिव्यू' और 'न्यूज़रील' जैसे कार्यक्रम जुड़ते गए.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption टेलीविज़न सेंटर पहुँचने से पहले लाइम ग्रोव स्टूडियो ही बीबीसी न्यूज़ का अड्डा थे.

शुरुआती दिनों में बीबीसी समाचार बुलेटिन लंदन के अलग-अलग स्टूडियों में तैयार होते थे.

1915 में बने लाइम ग्रोव स्टूडियो को बीबीसी ने टीवी बुलेटिन निर्माण के लिए ख़रीदा था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption टेलिविज़न सेंटर दशकों तक बीबीसी की पहचान बना रहा.

1969 में बीबीसी टीवी न्यूज़ के तमाम ऑपरेशन व्हाइट सिटी में स्थित टेलिविज़न सेंटर से किए जाने लगे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption नेन विंटन बीबीसी की पहली महिला न्यूज़ रीडर थीं.

नेन विंटन बीबीसी की पहली महिला न्यूज़ रीडर थीं. साठ के दशक में वो बहुत कम समय के लिए ही ख़बरें पढ़ सकीं.

उस वक़्त बीबीसी के एक शोध से पता चला था कि लोग महिलाओं को ख़बरें पढ़ते हुए पसंद नहीं करते हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption एंजेला बीबीसी का चर्चित चेहरा रही हैं.

एंजेला रिप्पोन बीबीसी की चर्चित न्यूज़ रीडर थीं. वे 1975 में 'नाइन ओ क्लॉक' कार्यक्रम के साथ जुड़ीं थीं.

शुरुआत में बच्चों के लिए साप्ताहिक चिल्ड्रंस न्यूज़रील प्रसारित किया जाता था.

1972 में जॉन क्रेवन ने छह से बारह साल तक के बच्चों के लिए न्यूज़राउंड कार्यक्रम शुरु किया.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जॉन क्रेवन 17 साल तक बच्चों के लिए समाचार प्रसारित करते रहे.

सीफ़ैक्स बीबीसी की एक टेक्स्ट समाचार सेवा थी जो क़रीब चालीस साल तक प्रसारित की जाती रही.

इसके ज़रिए संक्षिप्त टेक्स्ट ख़बरें प्रसारित की जातीं थीं. अक्टूबर 2012 में बीबीसी की इस सेवा को बंद कर दिया गया.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बीबीसी की सीफ़ैक्स सेवा चालीस साल तक लोगों तक ख़बरें पहुँचाती रही.

तकनीक विकास ने कैमरा और अन्य रिकॉर्डिंग तथा प्रसारण उपकरणों को छोटा कर दिया और बीबीसी संवाददाता युद्ध के मैदानों तक पहुँच गए.

केट एडी और ब्रायन हनरहन युद्ध रिपोर्टिंग के लिए चर्चित चेहरे बन गए.

1989 में चीन के तियेनएनमन चौक से कैट एडी ने प्रदर्शनकारियों पर सरकार की बर्बर कार्रवाई का लाइव विवरण भेजा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption डायना मोरान का व्यायाम शो बीबीसी पर ज़बरदस्त हिट रहा.

1983 में न्यूज़ कार्यक्रम में बड़ा बदलाव ब्रेकफ़ास्ट टाइम की शुरुआत था. गंभीर ख़बरों के साथ हल्की-फ़ुल्की ख़बरें भी प्रसारित की जाने लगी.

डायना मोरान का व्यायाम शो ज़बरदस्त हिट रहा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार