सोने ने चमकाया तस्करों का धंधा

इमेज कॉपीरइट AP

भारतीयों की सोने की ललक ने पूरे दक्षिण एशिया में तस्करों का जाल खड़ा कर दिया है.

नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका से सोना तस्करी के ज़रिए भारत भेजा जा रहा है. दिल्ली से तुषार बनर्जी के अलावा बीबीसी नेपाली से रमा परजुली, बीबीसी बांग्ला से अहरार हुसैन और बीबीसी सिंहला से अज़ाम अमीन की रिपोर्ट.

दिल्ली के व्यस्त चांदनी चौक में खड़े होकर इस पर यक़ीन करना मुश्किल लगता है कि भारतीयों में सोने के प्रति ललक की गूंज दक्षिण एशिया और उससे बाहर भी सुनी जाती है.

भारतीय, सोने का इस्तेमाल शादियों और दूसरे शुभ अवसरों के अलावा वित्तीय सुरक्षा के लिए भी करते हैं.

पिछले साल, भारत सरकार ने इस मांग पर लगाम कसने के लिए कुछ पाबंदियां जड़ी थीं ताकि बढ़ता वित्तीय घाटा कम हो सके.

मगर हुआ यह कि भारत की सीमाओं से परे तेज़ी से तस्करों के नेटवर्क पनपने लगे.

नेपाल वाया तिब्बत

दिल्ली के हलचल भरे बाज़ारों से दूर नेपाल और चीन की पहाड़ियों के बीच है तातोपानी सीमा. दोनों देशों के बीच पारगमन का अकेला औपचारिक बिंदु.

इमेज कॉपीरइट Reuters

यहां पुलिस ने बीबीसी को बताया कि वो सीमा पार तिब्बत से नेपाल में सोने की तस्करी कर रहे तस्करों से परेशान है.

तस्करों से ख़ौफ़ज़दा एक पुलिस अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, “सीमा इतनी फैली हुई है कि तस्करी दूसरे इलाक़ों से भी होती रहती है. और एक भी मेटल डिटेक्टर नहीं है.”

एक बार नेपाल में दाखिल होने के बाद भारत से लगी उसकी 1690 किलोमीटर की सीमा पर सोना हासिल करना काफ़ी आसान है.

रूट बांग्लादेश

यही कहानी बांग्लादेश की है, जिसकी भारत से और ज़्यादा लंबी सीमा लगती है.

ढाका के मुख्य हवाई अड्डे पर सोना पकड़े जाने के बाद यहां अफ़सरों को यक़ीन हो चला है कि तस्कर भारत में सोने की तस्करी करके मोटा पैसा बना रहे हैं और यह अकसर एयरलाइन स्टाफ़ या यात्रियों के भरोसे खाड़ी देशों से आता है.

इमेज कॉपीरइट AP

गोल्डस्मिथ एसोसिएशन ऑफ़ बांग्लादेश के प्रमुख दिलीप रॉय ने कहा, “वे बांग्लादेश को एक रूट की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं...उन्हें लगता है कि यहां सुरक्षा उतनी कड़ी नहीं है.”

बांग्लादेश में एक तस्कर ने बीबीसी से कहा कि उनके नेटवर्क काफ़ी व्यवस्थित हैं.

“हम कभी बॉस से नहीं मिलते. वो पैसे वाले बिज़नेसमैन हैं. उन्हें लाभ का 50 फ़ीसदी मिलता है और बाक़ी में दूसरे हिस्सेदार होते हैं.”

श्रीलंका परेशान

उधर, श्रीलंका में पिछले साल क़रीब 25 किलो अघोषित सोना पकड़ा गया था और 100 लोग गिरफ़्तार हुए थे.

इमेज कॉपीरइट Sam Panthaky AFP

वहां भी अधिकारियों को लगता है कि सोना खाड़ी और दूसरे देशों से प्लेन के ज़रिए आता है और कस्टम पाबंदियों से बचने के लिए लोग इसे अधबने रूप में निजी आभूषणों की तरह लाते हैं.

यहां कस्टम लीगल विभाग के निदेशक लेज़ली गामिनी कहते हैं, “हमने भारत जाने वाले यात्रियों की तहक़ीकात बढ़ा दी है. हमारे पास उम्दा उपकरण तो नहीं हैं पर मेटल डिटेक्टर हैं.”

माना जाता है कि भारत की नई सरकार सोने के आयात से पाबंदियां कम करने पर सोच रही है.

उम्मीद है कि इसका पड़ोसी देशों के सीमा अधिकारी स्वागत करेंगे, जो तस्करी की महामारी रोकने की कोशिश में जूझ रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार