हां, होता है बाघों की खाल का व्यापारः चीन

  • 12 जुलाई 2014
चीन, बाघ की खाल Image copyright Getty

चीन ने सार्वजनिक रूप से पहली बार कुबूला है कि वह क़ैद में रखे बाघों की खाल के व्यापार की अनुमति देता है. यह जानकारी खतरे में पड़े जीवों को बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में शामिल प्रतिभागियों ने दी है.

इनके मुताबिक़ कन्वेंशन ऑन इंटरनेशनल ट्रेड इन एन्डेन्जर्ड स्पिशीज़ ऑफ़ वाइल्ड फॉना एंड फ़्लोरा (साइट्स) में चीनी अफ़सरों ने पहले कभी यह स्वीकार नहीं किया था.

हालांकि जेनेवा में हुई साइट्स की स्थायी समिति की बैठक में चीन ने कथित रूप से कहा कि उसने अब भी बाघ की हड्डियों पर प्रतिबंध लगा रखा है.

साइट्स सचिवालय के सूत्रों ने पुष्टि की कि चीनी प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्य ने यह कहा है.

माना जाता है कि चीन में 5,000 से 6,000 बाघ क़ैद में हैं. जानवरों के संरक्षण के लिए काम करने वाले संगठन लंबे समय से खालों के व्यापार पर रोक लगाने की मांग करते रहे हैं.

'बाघों की खेती'

वन्यजीव विशेषज्ञों का कहना है कि चीन में 'बाघों की खेती' ने दूसरी जगहों पर भी इसके शिकार और तस्करी को बढ़ावा दिया है.

Image copyright AP

ख़बरों में कहा गया है कि बाघों की क़ैदगाह से ज़िंदा जानवर और जानवरों के अंग अंतर्राष्ट्रीय ग़ैरक़ानूनी बाज़ार में पहुंचाए जा रहे हैं.

चीन ने यह स्वीकारोक्ति एक रिपोर्ट पेश करने के बाद की, जिसमें कहा गया था कि चीनी सरकार ने क़ैद में रखे बाघों की खाल के व्यापार को अनुमति दे दी है.

नाम ज़ाहिर न करने की शर्त पर एक प्रतिभागी ने कहा, "जब बैठक में रिपोर्ट के निष्कर्षों पर विचार हो रहा था तो चीनी सदस्य ने दखल दिया. उन्होंने पहली बार आधिकारिक रूप से माना कि चीन में यह व्यापार होता है."

Image copyright GOH CHAH HIN AFP

वन्य जीवों के लिए काम करने वाली ब्रिटेन की पर्यावरण जांच संस्था से जुड़ीं श्रुति सुरेश कहती हैं, "चीन के दखल के बाद हमने अपनी बात रखी और साफ़ किया कि दूसरे संगठनों के साथ मिलकर की गई जांच से साफ़ पता चलता है कि चीन में यह व्यावसायिक स्तर पर हो रहा है."

उन्होंने कहा, "यह सफ़ाई इसलिए ज़रूरी थी क्योंकि चीनी प्रतिनिधि ने यह नहीं कहा था कि यह व्यावसायिक स्तर पर हो रहा है. डर यह था कि बाद में कह दिया जाता कि ऐसा तो वैज्ञानिक शोध के लिए या संग्रहालय में रखने के लिए हो रहा था."

Image copyright Thinkstock

साइट्स के सदस्य देशों को यह बताना होता है कि उन्होंने खतरे में पड़ी जंगली जानवरों या पौधों के व्यापार के दौरान यह सुनिश्चित किया है कि वो बचे रहेंगे.

वन्यजीव व्यापार पर एक नई रिपोर्ट के अनुसार साल 2000 में दुनिया भर में जंगली और क़ैद में रखे गए क़रीब 1600 बाघों का व्यापार किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार