रूस यूएन जाँच पर राज़ी, ब्लैक बॉक्स सौंपे गए

मलेशिया विमान ब्लैक बॉक्स इमेज कॉपीरइट EPA

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मलेशिया एयरलाइंस दुर्घटना के जांचकर्ताओं के हादसा स्थल पर बिना किसी रोकटोक के पहुंचने के संबंध में एक प्रस्ताव पारित किया है.

ऑस्ट्रेलिया के जरिये पेश किए गए प्रस्ताव में मांग की गई है कि वहां मौजूद हथियार बंद गिरोह कुछ भी ऐसा न करें जिससे दुर्घटना स्थल पर मौजूद सबूतों को नुक़सान पहुंचे.

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री जूली बिशप ने कहा, "प्रस्ताव में इस कृत की अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्वतंत्र जांच की भी मांग की गई है. हमारे पास जवाब होने चाहिए. हमें न्याय मिलना चाहिए. जो इस दुर्घटना से प्रभावित हुए हैं उनके प्रति ये हमारी जि़म्मेदारी है कि हम ये पता कर पाएं कि क्या हुआ था और उसके लिए कौन जिम्मेदार था."

हालांकि रूस के पास इस प्रस्ताव को वीटो करने का अधिकार था लेकिन उसने इसका स्वागत किया.

शब्दों पर एतराज़

इमेज कॉपीरइट Getty

रूस ने पहले प्रस्ताव के कुछ शब्दों पर एतराज जताया था.

लेकिन संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विटाली चुरकिन ने कहा कि इस मामले में किसी तरह के पुर्वाग्रहों को छोड़ दिया जाना चाहिए और न ही इस मामले पर राजनीतिक बयानबाजी होनी चाहिए.

मगर रूस के रक्षा मंत्रालय के लेफ्टिनेंट जनरल आंर्दे कोरपोलोव ने आरोप लगाया है कि रूस के एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने यूक्रेन के एक लड़ाकू विमान को उसी ओर जाते देखा था जिस तरफ मलेशियाई बोइंग जा रहा था और दोनों विमानों के बीच की दूरी तीन से पांच किलोमीटर के बीच थी.

ब्लैक बॉक्स सौंपे गए

इमेज कॉपीरइट AP

उनका कहना था कि ये विमान किसी भी टार्गेट पर 12 किलोमीटर की दूरी से निशाना ले सकते हैं.

इस बीच रूस-सर्मथित लड़ाकों ने सोमवार देर शाम को दुर्घटनाग्रस्त विमान एमएच17 के दो फ्लाइट रिकार्डर्स मलेशियाई अधिकारियों को सौंप दिए हैं.

यूक्रेन के अलगाववादियों ने दुर्घटनास्थल के 10 किलोमीटर दायरे में युद्धविराम की भी घोषणा की है.

इससे पहले यात्रियों के शव एक विशेष रेलगाड़ी टोरेज़ क़स्बे से खार्कीव के लिए रवाना हो गई थी जहां से शवों को विमान के ज़रिए नीदरलैंड्स भेजा जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार