सेक्सी फोटो, सीरिया संकट और इंडोनेशिया

  • 25 जुलाई 2014
फेसबुक इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अगर आप छुट्टी पर घूमने फिरने गए हों और समुद्र किनारे तस्वीरें खिंचवाईं हो तो उन्हें फेसबुक पर पोस्ट करने से पहले एक बार ये ज़रुर पढ़ें.

एक नया शोध कहता है कि जो लोग सोशल मीडिया पर अपनी सेक्सी तस्वीरें डालते हैं उनके बारे में माना जाता है कि उनकी क्षमताएं कम हैं उनकी तुलना में जो अपनी गंभीर तस्वीरें लगाते हैं.

ये शोध 'ओरेगन स्टेट यूनिवर्सिटी' ने किया है जिसमें 118 युवा महिलाओं को शामिल किया गया. इन महिलाओं को कई प्रोफाइल पन्ने दिखाए गए और उन्होंने सेक्सी तस्वीर वाले प्रोफाइल पन्नों की निंदा की.

इस शोध को लेकर कई ऑनलाइन फोरमों पर चर्चा भी हो रही है.

नाइजीरिया

इमेज कॉपीरइट AFP

नाइजीरिया में स्कूली बच्चियों के अपहरण को सौ दिन हो चुके हैं. बोको हराम की गिरफ़्त में इन बच्चियों के बारे में अब आशंका जताई जा रही है कि बच्चियों का बलात्कार किया जा रहा है.

हफिंगटन पोस्ट के लिए लिखते हुए एवलिन लियोपार्ड कहती हैं कि इन बच्चियों को जंगल में पता नहीं कहां ले जाया गया है. जो बच्चियां बच कर निकली हैं वो गैंग रेप की बात कह रही हैं.

लियोपोल्ड के कॉलम में कहा गया है कि भले ही बोको हराम धार्मिक उसूलों वाला संगठन है पर संगठन ने मानवाधिकारों का कई बार उल्लंघन किया है.

सीरिया

इमेज कॉपीरइट Reuters

सीरिया में बढ़ती मानवीय त्रासदी को केंद्र में रखते हुए अमरीका की पूर्व विदेश मंत्री मैडलीन अल्ब्राइट ने जानी मानी पत्रिका फॉरेन पॉलिसी में एक लेख लिखा है.

मैडलीन कहती है कि सीरिया में न केवल राजनीतिक संकट पर बात होनी चाहिए बल्कि मानवीय संकट के निदान की कोशिश की जानी चाहिए.

वो लिखती हैं कि मानवीय संकट अगर कम होता है तो राजनीतिक संकट के लिए ज़मीन तैयार होगी.

इंडोनेशिया

इमेज कॉपीरइट AP

इंडोनेशिया में चुनाव परिणाम आ चुके हैं लेकिन ये परिणाम मुस्लिम लोकतंत्र के लिए एक सबक के रुप में नहीं देखे जाने चाहिए.

ये कहना है क्वार्ट्ज़ के बॉबी घोष का. अरब और मुस्लिम समुदाय पर विशेषज्ञ माने जाने वाले बॉबी लिखते हैं कि ऐसा रुख इंडोनेशिया के बारे में या फिर अरब या मुसलमानों के बारे में बिल्कुल ही ग़लत है.

वो लिखते हैं कि मुसलमानों को ये साबित करने की ज़रुरत नहीं है कि इस्लाम और लोकतंत्र एक साथ रह सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)