इसराइल की पेशकश ठुकराकर हमास ने दाग़े रॉकेट

हमास के हमले की फ़ाइल फ़ोटो इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हमास के चरमपंथियों का कहना है कि उन्होंने इसराइल पर कई रॉकेट दाग़े हैं.

इसराइल ने ग़ज़ा में 12 घंटे के संघर्ष विराम को आगे बढ़ाने का प्रस्ताव रखा था जिसे हमास ने ख़ारिज कर दिया है.

हमास ने इसराइल पर आरोप लगाया है कि वह संघर्ष विराम के बहाने और हमलों की तैयारी कर रहा है.

हमास का कहना है कि लड़ाई थोड़ी देर के लिए नहीं बल्कि पूरी तरह से बंद होनी चाहिए.

ग़ज़ा पर इसराइली हमलों में एक हज़ार से अधिक फ़लस्तीनी मारे जा चुके हैं.

मारे गए अधिकतर फ़लस्तीनी आम नागरिक हैं.

वहीं हमास के हमलों में 42 इसराइली मारे गए हैं जिनमें 40 सैनिक हैं.

ग़ज़ा में स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि 19 दिनों की अब तक की लड़ाई में लगभग 5,900 फ़लस्तीनी घायल हुए हैं.

दोनों पक्षों के बीच मूल संघर्ष विराम का समय स्थानीय समयानुसार रात 8 बजे ख़त्म हो गया.

संघर्ष विराम के प्रयास जारी

इमेज कॉपीरइट AFP

ग़ज़ा में हमास ने इस समय का इस्तेमाल शवों को हटाने और रसद जुटाने में किया.

इसराइल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि संयुक्त राष्ट्र ने संघर्ष विराम का समय 24 घंटे के लिए बढ़ाने का आग्रह किया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने बताया, ''कैबिनेट ने तय किया कि संघर्ष विराम का समय चार घंटे बढ़ाकर आधी रात तक कर दिया जाए और संयुक्त राष्ट्र के आग्रह पर विचार किया जाए.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने दावा किया कि इसराइली सुरक्षा बलों ने इस दौरान कोई हमला नहीं किया.

इमेज कॉपीरइट AP

लेकिन हमास के प्रवक्ता इहाब अल-हुसैन ने बीबीसी को बताया कि इसराइल के इस प्रस्ताव को कई वजहों से ख़ारिज़ कर दिया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा कि हमास चाहता है कि ग़ज़ा की नाकाबंदी ख़त्म की जाए और लड़ाई पूरी तरह से बंद की जाए.

उन्होंने आरोप लगाया कि इसराइल पहले भी संघर्ष विराम के बहाने हमलों की तैयारी करता रहा है.

वहीं फ्रांस की राजधानी पेरिस में अमरीका, तुर्की, क़तर और कई अन्य देशों के विदेश मंत्रियों ने चर्चा की है और दोनों पक्षों से संघर्ष विराम बढ़ाने की अपील की है.

ब्रितानी विदेश मंत्री फिलिप हेमोंड ने बीबीसी से कहा है कि दोनों पक्षों को बातचीत के लिए एक टेबल तक लाने में संघर्ष विराम की अहम भूमिका होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार