अमरीका ने लीबिया से अपने कर्मचारियों को हटाया

लीबिया के त्रिपोली हवाई अड्डे का दृश्य इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका का कहना है कि उसने लीबिया की राजधानी त्रिपोली स्थित अपने दूतावास के कर्मचारियों को वहां से अस्थायी तौर पर हटा दिया है. अमरीका ने सुरक्षा चिंताओं की इसकी वजह बताया है.

एक दिन पहले ही लीबिया के अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि त्रिपोली हवाई अड्डे पर विरोधी लड़ाकों के बीच लड़ाई जारी रही तो देश के टुकड़े हो सकते हैं.

विदेश मंत्री जॉन कैरी का कहना है कि त्रिपोली में उनके कर्मचारियों के लिए 'ख़तरा' है.

उनका कहना है कि हटाए गए कर्मचारियों में मरीन गार्ड्स भी शामिल हैं जो दूतावास की सुरक्षा का ज़िम्मा संभाले हुए थे.

मरीन गार्ड्स को ट्यूनीशिया भेजा गया है.

लीबिया में वर्ष 2011 से ही अस्थिरता है जहां कई इलाक़ों पर लड़ाकों का नियंत्रण है.

बीबीसी संवाददाता का विश्लेषण

इमेज कॉपीरइट AP

राजधानी त्रिपोली में मौजूद बीबीसी संवाददाता राणा जावेद का कहना है कि देश में कहीं सेना की मौजूदगी नहीं है और बीते दो वर्ष में देश की केंद्रीय सरकार जहां कमज़ोर पड़ी है वहीं लड़ाके पहले से अधिक ताक़तवर हो गए हैं.

हथियारबंद समूह पूरे देश में फैले हुए हैं. लीबिया के हालात पश्चिमी देशों के लिए चिंता की बात रही है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मिशन ने राजनीति और सेना से जुड़े लोगों को एक सात बातचीत की टेबल पर लाने का प्रयास किया था जो विफल हो गया.

बेनग़ाज़ी में सितम्बर 2012 में अमरीकी दूतावास पर हमला हो चुका है जिसमें उसके राजदूत क्रिस्टोफर स्टीवंस और तीन अन्य अमरीकी मारे गए थे..

इस्लामिस्ट लीबिया रेवॉल्यूशनरी ऑपरेशंस रूम के सदस्य हवाई अड्डे पर क़ब्ज़ा करने का प्रयास कर रहे हैं.

साल 2011 में कर्नल ग़द्दाफ़ी को सत्ता से हटाए जाने के बाद से ही यहां ज़िंटान लड़ाकों का नियंत्रण रहा है.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक, साल 2011 में सक्रिय हुए हथियारबंद समूहों को निरस्त्र करने में सरकार विफल रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार