विश्व कप फ़ुटबॉल: रूस की मेज़बानी पर ऐतराज़

इमेज कॉपीरइट AP

ब्रिटेन के उप प्रधानमंत्री निक क्लेग ने कहा है कि पूर्वी यूक्रेन में विमान दुर्घटना के बाद कड़े प्रतिबंधों के तहत रूस को 2018 के विश्व कप फ़ुटबॉल के आयोजन का मौक़ा नहीं दिया जाना चाहिए.

ब्रिटेन के उप प्रधानमंत्री ने संडे टाइम्स से कहा कि यह ''अकल्पनीय'' है कि रूस को फ़ुटबॉल विश्व कप की मेज़बानी दी जाए.

रूस समर्थक अलगाववादी विद्रोहियों पर मलेशिया एयरलाइंस के विमान पर हमला करने का आरोप लगा है जबकि रूस का कहना है कि यह यूक्रेन सेना की कार्रवाई हो सकती है.

हालांकि फ़ुटबॉल की वैश्विक शासी निकाय संस्था फ़ीफ़ा ने 2018 विश्व कप के मेज़बान देश को बदलने की गुज़ारिश अस्वीकार कर दी है.

जर्मनी के कुछ राजनेताओं द्वारा रूस का बहिष्कार करने के बाद इस सप्ताह अपनी प्रतिक्रिया देते हुए फ़ीफ़ा ने कहा कि 2018 का टूर्नामेंट "अच्छे क़दम के लिए" हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मलेशिया एयरलाइंस का एक विमान एमएच17 एम्सटर्डम से क्वालालंपुर के रास्ते पर था, जब 17 जुलाई को यह पूर्वी यूक्रेन में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इसमें सवार सभी 298 लोगों की मौत हो गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पश्चिमी देशों ने इसके लिए रूस समर्थक विद्रोहियों को हथियार देने के आरोप लगाए थे, जिससे रूस इनकार करता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार