एक ही रात में 100 फ़लस्तीनी मारे गए

  • 29 जुलाई 2014
ग़ज़ा

तीन हफ़्ते से गज़ा में जारी इसराइली कार्रवाई के दौरान सोमवार रात को ग़ज़ा पर सबसे भीषण हवाई हमले हुए जिनमें 100 फ़लस्तीनी मारे गए.

ग़ज़ा में मौजूद बीबीसी संवाददाता के अनुसार हमलों में सात पूरे के पूरे परिवार मारे गए हैं.

ताज़ा जानकारी के मुताबिक एक वरिष्ठ फ़लस्तीनी अधिकारी ने इसराइल के साथ 24 घंटे के संघर्षविराम का प्रस्ताव रखा है. पीएलओ के यासिर आबिद रेब्बो ने कहा है कि इस पेशकश को हमास का समर्थन हासिल है.

इससे पहले फ़लस्तीनियों ने कहा था कि वे संघर्षविराम की शर्तों पर बातचीत के लिए एक प्रतिनिधिमंडल को काहिरा भेज रहे हैं.

ग़ज़ा में गलियां वीरान हैं और ग़ज़ा के एकमात्र पावर प्लांट में एक ईंधन टैंक पर निशाना लगने के बाद उसे बंद कर दिया गया है.

सोमवार को 10 इसराइली सैनिक मारे गए थे, जिनमें से पांच की मौत एक सुरंग के ज़रिए इसराइल में घुसे हमास के चरमपंथियों के हमले में हुई थी.

चेतावनी

इसराइल को सीमा पार जाने वाली दो सुरंगें मिली हैं जो सुरंगों के एक बड़े नेटवर्क से जुड़ी हो सकती हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने उन ख़बरों पर चिंता जताई है, जिनके अनुसार इसराइल उत्तरी ग़ज़ा में नागरिकों को इलाक़ा छोड़ने की चेतावनी देते हुए पर्चे गिरा रहा है.

इससे पहले इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने ग़ज़ा में 'लंबे' सैन्य अभियान की चेतावनी दी थी.

उन्होंने कहा था कि हमास के भूमिगत सुरंगों के जाल को ख़त्म करने तक यह अभियान जारी रहेगा.

फ़लस्तीनी अधिकारियों का कहना है कि अब तक 1,115 फ़लस्तीनी मारे गए हैं, जिनमें से ज़्यादातर आम नागरिक हैं.

आठ जुलाई से जारी संघर्ष में इसराइल के 53 सैनिक और तीन नागरिक- दो इसराइली और एक थाईलैंड का कर्मचारी मारे गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार