भारतीय नर्सों की रोज़ीरोटी ख़तरे में

लीबिया इमेज कॉपीरइट EPA

लीबिया में काम करने वाली भारत की एक नर्स ने बीबीसी हिंदी को बताया है कि वहां कुछ अस्पतालों में नर्सों से कहा गया है कि वे फ़ौरन इस्तीफ़ा दें लेकिन अगले तीन महीने तक काम करती रहें.

लिज़ी योहानन नाम की इस नर्स ने कहा, ''एक सरकारी अस्पताल में काम कर रहीं लगभग 30 नर्सों से कहा गया है कि वे अपना हिसाब चुकता किए बिना नौकरी छोड़ दें.''

उनका कहना है, ''हम डरे हुए हैं और एक साथ रहने लगे हैं. अस्पताल प्रबंधन हमें घर से अस्पताल ले जाता है और फिर घर छोड़ आता है. हमें नहीं पता खाने-पीने का सामान कितने दिन तक चलेगा.''

इमेज कॉपीरइट EPA

एक अन्य नर्स ने नाम ज़ाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, ''हम खाने-पीने की चीज़ें ख़रीदने के लिए भी बाहर नहीं निकल सकते हैं क्योंकि जैसे ही बाहर निकलते हैं, हमें बंदूक़ की नोक पर लूट लिया जाता है.''

लिज़ी ने बताया, ''हमने अपने दूतावास में बात की और उन्होंने कहा कि हमें अपने घरों में रहना चाहिए. लेकिन ऐसा कितने दिन तक चल सकता है.''

लीबिया में बढ़ती हिंसा के मद्देनज़र भारतीय दूतावास ने परामर्श जारी कर वहां रह रहे सभी भारतीयों से लीबिया छोड़ देने के लिए कहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार