इसराइल, हमास संघर्ष विराम पर राज़ी

  • 5 अगस्त 2014
ग़ज़ा पर इसराइल का हवाई हमला, चार अगस्त इमेज कॉपीरइट epa

अधिकारियों का कहना है कि इसराइल और फलस्तीनी गुट ग़ज़ा में मंगलवार से 72 घंटे के संघर्ष विराम के लिए तैयार हो गए हैं.

संघर्ष विराम मंगलवार को स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे या पांच बजे जीएमटी पर शुरु होगा.

इससे पहले इसराइली सेना ने सोमवार को ग़ज़ा में सात घंटे के एक तरफ़ा संघर्ष विराम के बाद सैन्य कार्रवाई शुरु कर दी थी.

ग़ज़ा में स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक़ चार हफ़्ते से चल रहे संघर्ष में अब तक 1800 से ज़्यादा फलस्तीनी और 67 इसराइली सैनिक मारे जा चुके हैं.

इससे पहले भी संघर्ष के दौरान दोनों पक्षों ने कई बार संघर्ष विराम का ऐलान किया लेकिन इनमें से कोई भी सफल नहीं हुआ. दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर संघर्ष विराम तोड़ने के आरोप लगाए.

''बिना शर्त''

ताज़ा संघर्ष विराम के बारे में मिस्र की राजधानी काहिरा में सोमवार को विभिन्न फलस्तीनी गुटों ने बातचीत की हालांकि इसमें इसराइल शामिल नहीं हुआ था.

लेकिन बाद में एक इसराइली अधिकारी ने बीबीसी को बताया, "मिस्र के बिना शर्त संघर्ष विराम के प्रस्ताव को इसराइल कल (मंगलवार) सुबह आठ बजे से मानेगा, पहले से किसी शर्त के बिना और 72 घंटे के लिए."

वहीं फलस्तीनी प्रतिनिधिमंडल के नेता अज़्ज़ाम अल-अहमद ने कहा, "फलस्तीनियों ने मिस्र द्वारा प्रस्तावित संघर्ष विराम मंज़ूर कर लिया है."

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption येरुशलम में सोमवार को एक बस और एक एक्सकेवेटर की भिड़ंत को इसराइल ने आतंकी हमला बताया.

मिस्र ने इससे पहले भी इसी तरह के संघर्ष विराम का समझौता करवाया था जिसे इसराइल ने मंज़ूर कर लिया था लेकिन फलस्तीनी गुट हमास ने खारिज कर दिया था.

हमास का ग़ज़ा पर नियंत्रण है.

नए समझौते में प्रस्ताव है कि सभी पक्षों के प्रतिनिधि मंडल काहिरा में आगे की बातचीत करने के लिए आएं.

संघर्ष विराम के लिए फलस्तीनियों की मुख्य मांगें ये हैं कि इसराइली सेना पूरी तरह से ग़ज़ा से हटे, ग़ज़ा की नाकेबंदी ख़त्म हो और सभी सरहदें खोली जाएं.

आरोप-प्रत्यारोप

सोमवार को इसराइली सेना ने ग़ज़ा के कुछ हिस्सों में सात घंटे के संघर्ष विराम के बाद वहां फिर से सैन्य कार्रवाई शुरु कर दी थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सोमवार को सात घंटे के संघर्ष विराम के बाद इसराइल ने ग़ज़ा में सैन्य कार्रवाई फिर शुरु कर दी थी.

इसराइल के प्रधान मंत्री बिन्यामिन नेतनयाहू ने कहा था कि कार्रवाई तब तक चलेगी जब तक इसराइल में सुरक्षा और शांति बहाल नहीं हो जाती.

हालांकि सोमवार को दिन में संघर्ष विराम की वजह से हिंसा में कमी आई थी, लेकिन फलस्तीनियों ने इसराइल पर संघर्ष विराम तोड़कर उत्तरी ग़ज़ा में एक शरणार्थी शिविर पर बमबारी करने का आरोप लगाया था.

फलस्तीनियों के मुताबिक़ इस बमबारी में एक महिला और एक आठ साल की बच्ची की मौत हो गई.

वहीं इसराइल ने कहा था कि चरमपंथियों का इसराइल में रॉकेट दागना जारी है.

येरुशलम में एक इसराइली व्यक्ति की उस वक्त मौत हो गई जब एक एक्सकावेटर यानी ज़मीन की खुदाई करने वाली मशीन एक बस से भिड़ गई.

इसराइली पुलिस का कहना था कि ये एक आंतकी हमला था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार