ग़ज़ा में 72 घंटे का संघर्षविराम लागू

  • 5 अगस्त 2014
ग़ज़ा में संघर्षविराम

इसराइल और फ़लस्तीन के संगठन हमास के बीच ग़ज़ा में तीन दिन का संघर्षविराम लागू हो गया है.

इसराइल ने कहा है कि वह अपने सभी सैनिकों को ग़जा़ से हटा देगा.

संघर्षविराम मंगलवार को स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे शुरू हुआ.

संघर्षविराम में मध्यस्थ की भूमिका निभाने वाले मिस्र ने उम्मीद जताई है कि इसके बाद ग़ज़ा में हिंसा थम जाएगी.

संघर्षविराम लागू होने से कुछ मिनट पहले हमास ने एक के बाद एक कई रॉकेट दाग़े जिससे इसराइल के दक्षिणी इलाक़े में हवाई हमले का साइरन सुनाई दिया.

इसराइली सैनिकों ने भी ग़जा़ में कई जगह कार्रवाई की.

हिंसा की आशंका

बीबीसी के मध्यपूर्वी मामलों के संवाददाता का कहना है कि दोनों तरफ से हमले की किसी भी कार्रवाई से हिंसा फिर भड़क सकती है.

इसराइल का दावा है कि उसने हमास द्वारा बनाई गई सभी सुरंगों को नष्ट करके अपना मक़सद पूरा कर लिया है.

ग़ज़ा में स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक़ चार हफ़्ते से चल रहे इस संघर्ष में अब तक 1800 से ज़्यादा फ़लस्तीनी और 67 इसराइली सैनिक मारे जा चुके हैं.

पहले भी कई बार संघर्षविराम का ऐलान किया गया था लेकिन वो सफल नहीं हो पाए. दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर संघर्ष विराम तोड़ने के आरोप लगाए.

इसराइली सेना के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल पीटर लेर्नर ने कहा, "इसराइली सुरक्षा बलों को ग़जा़ पट्टी के बाहर रक्षात्मक ठिकानों पर तैनात किया जाएगा."

सैन्य कार्रवाई

इससे पहले इसराइली सेना ने सोमवार को ग़ज़ा में सात घंटे के एकतरफ़ा संघर्षविराम के बाद सैन्य कार्रवाई शुरू कर दी थी.

ताज़ा संघर्षविराम के बारे में मिस्र की राजधानी क़ाहिरा में सोमवार को विभिन्न फलस्तीनी गुटों ने बातचीत की हालांकि इसमें इसराइल शामिल नहीं हुआ था.

लेकिन बाद में एक इसराइली अधिकारी ने बीबीसी को बताया, "मिस्र के बिना शर्त संघर्ष विराम के प्रस्ताव को इसराइल कल (मंगलवार) सुबह आठ बजे से मानेगा, पहले से किसी शर्त के बिना और 72 घंटे के लिए."

वहीं फलस्तीनी प्रतिनिधिमंडल के नेता अज़्ज़ाम अल-अहमद ने कहा, "फलस्तीनियों ने मिस्र द्वारा प्रस्तावित संघर्ष विराम मंज़ूर कर लिया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार