ऐपल और सैमसंग के बीच समझौता हुआ

एप्पल सैमसंग इमेज कॉपीरइट

तकनीक जगत की दो प्रमुख कंपनियां ऐपल और सैमसंग अमरीका से बाहर एक-दूसरे पर किए गए सभी मुक़दमे वापस लेने के लिए राज़ी हो गई हैं.

इन दोनों कंपनियों ने अमरीका के बाहर नौ देशों में एक-दूसरे पर पेटेंट उल्लंघन के मुक़दमे कर रखे हैं.

इनमें ब्रिटेन, दक्षिण कोरिया, जापान और जर्मनी शामिल हैं.

एक बयान में सैमसंग ने कहा है कि इसके तहत 'लाइसेंस को लेकर समझौता' नहीं हुआ है और कंपनी अमरीका में चल रहे मामले जारी रखेगी.

ऐपल और सैमसंग स्मार्टफ़ोन और टैबलेट बनाने वाली विश्व की दिग्गज कंपनियाँ हैं.

दोनों ही कंपनियों के बीच दुनिया के कई देशों में पेटेंट उल्लंघन को लेकर मुक़दमेबाज़ी जारी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

दोनों कंपनियों के बीच ये मुक़दमेबाज़ी साल 2011 में शुरू हुई थी जब ऐपल ने अमरीका में सैमसंग के ख़िलाफ़ मुक़दमा दायर किया था.

अमरीकी कंपनी ऐपल ने आरोप लगाया था कि सैमसंग के गैलेक्सी स्मार्टफ़ोन और टेबलेट ने ऐपल के आईफ़ोन और आईपैड की विशेषताएं कॉपी की हैं.

इसके बाद से दक्षिण कोरियाई कंपनी सैमसंग ने दुनिया के कई देशों में ऐपल के ख़िलाफ़ अपने पेटेंट के उल्लंघन के मामले दायर किए.

भारी जुर्माना

हालांकि दोनों कंपनियों के बीच मुख्य मामला अमरीका में ही चल रहा है, जहाँ हाल ही में दो मामलों में ऐपल को जीत हासिल हुई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

मई में एक अमरीकी अदालत ने सैमसंग से ऐपल को 10.96 करोड़ डॉलर चुकाने के लिए कहा था. हालांकि ऐपल ने 2.2 अरब डॉलर का हर्जाना मांगा था.

अदालत ने यह भी कहा था कि ऐपल ने भी सैमसंग के पेटेंट अधिकारों का उल्लंघन किया है. ऐपल से भी एक लाख 58 हज़ार डॉलर का हर्जाना देने के लिए कहा गया था.

दो साल पहले पेटेंट उल्लंघन के एक अन्य मामले में अमरीकी अदालत ने सैमसंग से ऐपल को 1.05 अरब डॉलर का भारी हर्जाना देने के लिए कहा था.

सैमसंग ने इस फ़ैसले को चुनौती दी थी और मामला अब भी चल रहा है.

(बीबीसी हिंदी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार