'20 लाख मौतों के ज़िम्मेदार' नेताओं को उम्रक़ैद

  • 7 अगस्त 2014
इमेज कॉपीरइट Getty

दो बड़े ख़मेर रूज़ नेताओं को कंबोडिया में मानवता के ख़िलाफ़ अपराध के लिए उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई गई है.

कंबोडिया में संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक ट्रिब्यूनल ने उन्हें यह सज़ा सुनाई.

जिन दो नेताओं को सज़ा सुनाई गई है उनमें नुऑन चिया पोल पॉट के डिप्टी थे और खियू संफान माओवादी शासन के प्रमुख थे.

वे पहले आला नेता हैं जिन्हें इन अपराधों के लिए ज़िम्मेदार ठहराया गया है.

समझा जाता है कि ख़मेर रूज़ शासन के दौरान क़रीब 20 लाख लोग भूख, अत्यधिक काम या मौत की सज़ा की वजह से मारे गए थे.

1975 से 1979 के बीच रहे इस शासन के दौरान एक कृषि प्रधान समाज बनाने की कोशिश की गई थी.

इमेज कॉपीरइट AP

इस दौरान शहर खाली करा लिए गए थे और उनके निवासियों को जबरन ग्रामीण सहकारी संस्थाओं में झोंक दिया गया था. कई काम की वजह से मारे गए और दूसरे अर्थव्यवस्था चरमराने के बाद भूख से मर गए.

आरोपों से इनकार

चार हिंसक सालों के दौरान ख़मेर रूज़ ने उन सभी को मौत के घाट उतार दिया जिन्हें वो अपना दुश्मन मानते थे. इनमें बहुत से बुद्धिजीवी, अल्पसंख्यक और पूर्व अफ़सर और उनके परिवार शामिल थे.

नुऑन चिया को इस शासन की वैचारिक ताक़त समझा जाता था. जबकि खियू संफान इसका सार्वजनिक चेहरा थे.

इमेज कॉपीरइट Getty

वकीलों की दलील थी कि उन्होंने नीतियां बनाईं और लोगों को मौत के घाट उतारने में सहयोग किया.

दोनों ने उन पर लगाए गए आरोपों से इनकार किया है. पिछले साल अपने आख़िरी बयानों में उन्होंने पछतावा तो किया पर साथ ही कहा था कि न तो उन्होंने हत्याओं के आदेश दिए और न ही उन्हें इनका पता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार