इमरान का नवाज़ के ख़िलाफ़ 'आज़ादी मार्च

इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान तहरीके इंसाफ़ पार्टी के प्रमुख इमरान ख़ान ने देश के स्वतंत्रता दिवस के अवसर यानी 14 अगस्त के दिन 'आज़ादी मार्च' का आहवान किया है.

लेकिन कहा है कि नवाज़ सरकार के खिलाफ़ उनके विरोध का मतलब ये नहीं कि वो फौज की सत्ता में वापसी चाहते हैं.

इमरान ख़ान ने कहा कि फ़ौज की वापसी पाकिस्तान की दिक्क़तों का हल नहीं है.

उनका कहना था कि नवाज़ शरीफ़ की सरकार सत्ता में आने के बाद बार बार फ़ौज की वापसी की बात कहकर लोगों को डरा रही है.

मार्च की इजाज़त नहीं

इस्लामाबाद में पत्रकारों से बात करते हुए इमरान ख़ान ने पिछले साल हुए चुनाव में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायधीश समेत दूसरे लोगों की मदद से धांधली का आरोप लगाया.

दूसरी ओर प्रशासन ने एक नोटिस भेजकर तहरीके इंसाफ़ से कहा है कि उसे किसी भी रैली या प्रदर्शन को लेकर सूचना नहीं दी गई है और क्षेत्र में धारा 144 लागू है.

पार्टी के सांसद अली मोहम्मद ख़ान ने बीबीसी से कहा कि वो मार्च कर रहे हैं और उनका प्रोग्राम किसी एक जगह पर नहीं रूकेगा इसलिए उसे प्रशासन की आज्ञा की ज़रूरत नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार