केन्या पर इबोला का 'भारी ख़तरा'

इबोला इमेज कॉपीरइट AP

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि घातक वायरस इबोला के पूर्वी अफ़्रीका के केन्या में फैलने का 'ख़तरा बहुत ज़्यादा' है.

केन्या यातायात का एक अहम केंद्र है, जहां हर हफ़्ते पश्चिम अफ़्रीका से करीब 70 उड़ानें आती हैं.

स्वास्थ्यकर्मी इबोला को पश्चिमी अफ़्रीका में ही सीमित रखने की कोशिश में हैं जहां वायरस से 1,000 से ज़्यादा लोगों की जानें जा चुकी हैं.

केन्या में डब्ल्यूएचओ के कंट्री डायरेक्टर कस्टोडिया मैन्डल्हेट ने कहा कि पूर्वी अफ़्रीकी देश को "द्वितीय वर्ग में रखा गया है - जिसका मतलब है कि संक्रमण का खतरा अधिक है".

पिछले कुछ हफ़्तों में राजधानी, नैरोबी, के मुख्य हवाई अड्डों पर स्वास्थ्य जांच शुरू कर दी गई है.

केन्या सरकार का कहना है कि वो इबोला प्रभावित चार देशों से उड़ानें रद्द नहीं करेगा क्योंकि उसकी सीमाएं पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उधर सियरा लिओन की राजधानी फ़्रीटाउन में बीबीसी संवाददाता उमारु फ़ोफाना के अनुसार इबोला से संक्रमित मरीज़ों का इलाज करने वाले एक डॉक्टर, मोदुपेह कोल, की मौत हो गई है.

देश में इस बीमारी से मरने वाले वाले वह दूसरे डॉक्टर हैं.

अफ़्रीका के सबसे घनी आबादी वाले देश नाइजीरिया में मंगलवार को इबोला से तीसरी मौत की ख़बर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार