पाकिस्तान: विरोध प्रदर्शनों पर अदालती रोक

इस्लामाबाद इमेज कॉपीरइट Getty

पाकिस्तान में लाहौर उच्च न्यायालय ने 14 अगस्त को प्रस्तावित दो विपक्षी समूहों के विरोध प्रदर्शनों पर रोक लगा दी है.

लेकिन पाकिस्तान तहरीके इंसाफ़ पार्टी के नेता इमरान ख़ान ने कहा है कि उनका आज़ादी मार्च इस रोक के बाद भी निकलेगा.

विरोध प्रदर्शन के एक दिन पहले ही राजधानी इस्लामाबाद और रावलपिंडी की सड़कों पर हज़ारों की संख्या में दंगारोधी पुलिस को तैनात किया गया है.

पाकिस्तान को जंगल नहीं बनने देंगे: नवाज़ शरीफ़

सड़कों को कंटीले तारों और शिपिंग कंटेनरों को डालकर बंद कर दिया गया है. हालांकि अदालत ने ऐसे किसी प्रतिबंध को हटाने का आदेश दिया है.

इमरान का नवाज़ के ख़िलाफ़ आज़ादी मार्च

विरोध मार्च का आयोजन पाकिस्तान तहरीके इंसाफ़ के नेता इमरान ख़ान और जानेमाने धार्मिक नेता ताहिरुल क़ादिरी कर रहे हैं.

14 अगस्त पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस है.

इस्तीफ़े का दबाव

इमेज कॉपीरइट AP

दोनों नेता पाकिस्तान की सरकार पर इस्तीफ़े का दबाव बना रहे हैं.

इमरान ख़ान का कहना है कि प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने वर्ष 2013 का आम चुनाव धोखाधड़ी से जीता था.

वहीं ताहिरुल क़ादिरी का कहना है कि वे क्रांति के ज़रिए देश के भ्रष्ट तंत्र को दुरुस्त करना चाहते हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)