मोसूल बांध पर कब्ज़े को लेकर विरोधी दावे

  • 18 अगस्त 2014
मोसूल बांध Image copyright ap

कुर्द पेशमर्गा लड़ाकों और इराक़ी सुरक्षा बलों के देश के सबसे बड़े मोसूल बांध पर फिर से कब्ज़े को लेकर परस्पर विरोधी ख़बरें आ रही हैं.

इराक़ी सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जनरल क़ासिम अता ने सरकारी टेलीविज़न को बताया कि सोमवार को 'बांध की पूरी तरह सफ़ाई हो गई'.

वैसे उस इलाक़े में मौजूद पत्रकारों का कहना है कि संघर्ष जारी है और मुख्य द्वार पर अब भी जिहादियों का क़ब्ज़ा है.

इस्लामिक स्टेट या आईएस के एक बयान में भी सेना के दावे से उलट बात कही गई है.

बयान के अनुसार उन लोगों ने कुर्द लड़ाकों का हमला नाकाम कर दिया और उन लोगों को गहरी क्षति पहुँचाई.

इस बांध पर आईएस ने सात अगस्त को नियंत्रण कर लिया था. ये रणनीतिक दृष्टि से काफ़ी अहम है.

दजला नदी पर स्थित ये बांध मूसल से लगभग 50 किलोमीटर दूर है.

इससे उत्तरी इराक़ के बड़े हिस्से में पानी और बिजली की आपूर्ति होती है.

इससे पहले कुर्द अधिकारियों ने कहा था कि पेशमर्गा लड़ाकों ने बांध के आस-पास के अधिकांश इलाक़े पर कब्ज़ा कर लिया था, लेकिन बांध पर पूरा कब्ज़ा करने में कुछ समय लगेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार