इबोलाः प्रायोगिक दवा से मरीज़ की हालत सुधरी

  • 19 अगस्त 2014
इबोला

लाइबेरिया के एक मंत्री का कहना है कि इबोला संक्रमण से पीड़ित तीन डॉक्टरों ने एक सप्ताह पहले बिना परीक्षण वाली जिस दवा का इस्तेमाल किया था, उसके नतीजे सकारात्मक मिले हैं.

इस दवा का नाम ZMapp है, सबसे पहले इस दवा को दो अमरीकी राहत कर्मियों को दिया गया था. ये दोनों लाइबेरिया से इलाज कराने के लिए अपने देश लौटे थे.

इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों की एक समिति ने फ़ैसला किया था कि इबोला वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज के लिए एक्सपेरिमेंटल या प्रायोगिक दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है.

विशेषज्ञों का कहना था कि मौजूदा हालात में ऐसी दवाओं का प्रयोग करना नैतिक है जिनके असर और विपरीत प्रभाव का पहले से पता नहीं हैं.

इस साल के शुरुआत से अब तक 1,229 लोग घातक इबोला वायरस से मारे जा चुके हैं.

अफ़्रीका के चार देश - लाइबेरिया, गिनी, सियरा लियोन और नाइजीरिया इस साल फ़रवरी से इसकी चपेट में हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार