सरकार और इमरान की पार्टी के बीच बातचीत

इमरान इमेज कॉपीरइट AP

इस्लामाबाद में जारी प्रदर्शनों को लेकर इमरान ख़ान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ़ और पाकिस्तान सरकार के बीच बातचीत का पहला दौर ख़त्म हो गया है.

बातचीत के बाद पंजाब प्रांत के गवर्नर चौधरी मोहम्मद सरूर ने कहा कि 'माहौल अच्छा था'.

तहरीक-ए-इंसाफ़ की ओर से बातचीत में शामिल हुए शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि सरकार उनकी माँगों का जायज़ा लेकर जवाब देगी.

सरकार और तहरीक-ए-इंसाफ़ के बीच दूसरे दौर की बातचीत भी गुरुवार को ही होगी. इमरान की पार्टी ने सरकार के सामने छह मांगे रखी हैं.

गुरुवार को पाकिस्तान की संसद ने एक प्रस्ताव पास किया जिसमें कहा गया कि, 'कुछ हज़ार लोग संसद का अपमान कर रहे हैं'.

वहीं पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्टों में कहा गया है कि अमरीका को पाकिस्तान में असंवैधानिक बदलाव स्वीकार्य नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

डॉन और द नेशन अख़बारों ने अमरीका के विदेश मंत्रालय की उप प्रवक्ता मैरी हार्फ़ के हवाले से कहा, "हम पाकिस्तान के संविधान और चुनावी प्रक्रिया का समर्थन करते हैं. उन्होंने इसी प्रक्रिया का पालन किया और चुनाव हुए. हम पाकिस्तान के साथ काम करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं."

हार्फ़ ने कहा, "हम इस प्रजातांत्रिक व्यवस्था में संविधान से बाहर किसी बदलाव या उसे थोपने वालों का समर्थन नहीं करते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार