अमरीका को 'इस्लामिक स्टेट से बड़ा ख़तरा'

चरमपंथी गुट इस्लामिक स्टेट इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका ने चेतावनी दी है कि इस्लामिक स्टेट के चरमपंथी उसके लिए सबसे बड़ा खतरा हैं.

अमरीकी रक्षा मंत्री चक हेगल ने कहा है कि इराक़ में अमरीकी हवाई हमले से इन चरमपंथियों की ताकत कमजोर करने में मदद मिली है लेकिन इन चरमपंथियों के दोबारा संगठित होने के भी आसार हैं.

अमरीका के वरिष्ठ जनरल मार्टिन डेम्प्सी ने इस बात पर जोर दिया है कि इस्लामिक स्टेट के सीरिया ठिकानों पर हमला किए बगैर उन्हें हराया नहीं जा सकता है.

इस्लामिक स्टेट की ओर से अमरीकी पत्रकार जेम्स फॉली का सिर कलम करने वाला वीडियो जारी होने के बाद अमरीका ने ये चेतावनी दी है.

चक हेगल ने इस्लामिक स्टेट को सिर पर मंडरा रहा खतरा करार दिया है.

'अमरीकी याद्दाश्त'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption चरमपंथियों ने अमरीकी पत्रकार जेम्स फॉली की हत्या कर दी थी.

उन्होंने कहा, "वे किसी चरमपंथी गुट से ज़्यादा हैं. वे विचारधारा, रणनीति और सैन्य ताकत का एक जटिल घालमेल हैं. उन्हें बेहतरीन फंडिंग हासिल है. हमने अब तक जो देखा है, यह उससे ऊपर की चीज है."

अमरीका ने जेम्स फॉली की मौत की जाँच शुरू कर दी है और उनके एटॉर्नी जनरल एरिक होल्डर ने कहा है अमरीका की 'याद्दाश्त अच्छी' है.

यह भी पता चला है कि जेम्स फॉली और अन्य अमरीकी बंधकों को बचाने के लिए अमरीका ने इस गर्मी की शुरुआत में सैन्य कार्रवाई की कोशिश की थी लेकिन इस अभियान में नाकामी मिली.

चरमपंथियों ने उनकी रिहाई के लिए फिरौती के तौर पर लगभग 13 करोड़ अमरीकी डॉलर यानी तकरीबन 800 करोड़ रुपयों की माँग की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार