36 लाख लोगों की जान लेता है भ्रष्टाचार

अमरीकी संस्था वन का अनुमान है कि भ्रष्टाचार से हर साल क़रीब 36 लाख लोगों की मौत हो जाती है और इसकी वजह से सालाना 10 खरब डॉलर से अधिक पैसा ग़रीब देशों से बाहर चला जाता है.

ग़रीबी उन्मूलन में लगे संगठन की रिपोर्ट कहती है कि 20 साल से ग़रीबी के ख़िलाफ़ जारी लड़ाई को भ्रष्टाचार और अपराध से ख़तरा है.

गुमनाम कंपनियां

भ्रष्ट गतिविधियों में गुमनाम कंपनियां और काले धन को सफ़ेद करना भी शामिल है.

संगठन को लगता है कि अगर स्वास्थ्य के क्षेत्र में होने वाले निवेश को बचा लिया जाए तो कम आय वाले देशों में बहुत से लोगों की जान बचाई जा सकती हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक़ भ्रष्टाचार निजी निवेश को रोकता है, आर्थिक विकास को कम करता है और व्यापार लागत को बढ़ाता है. इससे देश में राजनीतिक अस्थिरता आ सकती है.

रिपोर्ट के मुताबिक़ अगर सब सहारा अफ़्रीकी देशों से भ्रष्टाचार ख़त्म कर दिया गया होता तो हर साल एक करोड़ और बच्चों को पढ़ाया जा सकता है.

इससे उतने पैसे बचते कि पांच लाख अतिरिक्त प्राथमिक अध्यापकों को बहाल किया जा सकता था. इतनी रक़म से एक करोड़ दस लाख एचआईवी/एड्स पीड़ितों को दवाएं दी जा सकती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार