ये कर्मचारी साल भर रहे गूगल कैंपस में

मैथ्यू वीवर इमेज कॉपीरइट

इंटरनेट सर्च इंजन गूगल के एक पूर्व कर्मचारी ने दावा किया है कि वह क़रीब एक साल तक कंपनी के कैंपस में रहा.

मैथ्यू वीवर ने बीबीसी को बताया कि वह 2005 से 2006 के बीच 54 हफ़्तों तक कैलिफोर्निया के माउंटेन व्यू स्थित गूगल के कैंपस में रहे.

उन्होंने दावा किया कि वह ऐसा करने वाले पहले व्यक्ति थे और उनके बाद कई और लोगों ने भी ऐसा किया.

गूगल और दूसरी तकनीकी कंपनियां अपने कर्मचारियों को कई तरह की सुविधाएं प्रदान करती हैं.

वीवर ने कंपनी की पार्किंग में एक वैन को अपना ठिकाना बना रखा था और इसी में उन्होंने एक साल बिता दिए.

खाने की सुविधा

उन्होंने कहा, "गूगल परिसर में मौजूद कैफे में दिन में तीन बार खाने और जिम में नहाने की सुविधा मौजूद थी. साथ ही वहां मुफ्त में कपड़े धुलवाने की भी सुविधा थी."

इमेज कॉपीरइट Getty

वीवर ने कहा कि जब भी उन्हें काम से फुर्सत मिलती थी तो उनके मनोरंजन के लिए भी वहां सारे साधन मौजूद थे.

वीवर के मुताबिक़ उन्होंने कभी भी अपनी मौजूदगी को छिपाने की कोशिश नहीं की. उन्होंने बताया, "सुरक्षाकर्मियों को इस पर आपत्ति नहीं थी. ये 2005 की बात है. उस समय गूगल एक छोटी कंपनी थी."

वीवर ने कहा कि वह अपनी ज़िदंगी से ख़ुश थे लेकिन उन्हें अपनी इस बेतुकी रिहाइश के लिए अपनी महिला मित्रों को समझाना मुश्किल हो रहा था, जिसकी वजह से आख़िरकार उन्हें अपना आशियाना बदलना पड़ा.

उन्होंने अपने इस अनोखे आशियाने के बारे में एक वेबसाइट पर एक फ़ोरम में लिखा और सुर्खियों में आ गए.

गैराज में गाड़ी

गूगल के एक और कर्मचारी ब्रैंडन ओक्सेनडाइन ने भी जून से सितंबर 2012 तक कंपनी के परिसर में रहने का दावा किया.

हालांकि वह वीवर की तरह खुलेआम नहीं बल्कि छिपकर रहे. उन्होंने कहा, "गूगल में काम कर चुके मेरे एक दोस्त ने मुझे बताया कि आप 72 घंटे से ज़्यादा कैंपस में नहीं रह सकते."

इमेज कॉपीरइट MORGAN BROWN

ओक्सेनडाइन कंपनी के गैराज में खड़ी अपनी गाड़ी में सोते थे.

उन्होंने कहा, "मैंने सबको बताया था कि मैं सैन फ्रांसिस्को चला गया हूं लेकिन असल में मैं अपनी गाड़ी में ही रहता था."

लेकिन सबसे लंबे समय तक ऑफिस में रहने का रिकॉर्ड बेन डिस्को के नाम हो सकता है.

नींद के लिए नाकाफी

इमेज कॉपीरइट

बेन कैंपस में पार्क अपनी गाड़ी में 2011 से 2012 के दौरान 60 हफ़्ते तक रहे.

उन्होंने कहा, "मैंने थोड़ी बहुत चालाकी की. मेरी गर्लफ्रेंड माउनटेन व्यू में रहती थी और मैं कभी कभार वहां चला जाया करता था."

बेन ने कहा कि गूगल अपने कर्मचारियों को आराम फरमाने की सुविधा देती है लेकिन यह लंबी नींद के लिए नाकाफ़ी है.

हालांकि गूगल ने इस मामले में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार