सीरिया मामला: रूस की अमरीका को चेतावनी

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस ने चेतावनी दी है कि अगर अमरीका सीरिया में चरमपंथियों के ख़िलाफ़ हवाई हमले करता है तो ये अंतरराष्ट्रीय क़ानून का ‘बड़ा उल्लंघन’ होगा.

रूसी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि अगर संयुक्त राष्ट्र के समर्थन के बिना अमरीका ऐसी कोई कार्रवाई करता है तो ये ‘आक्रमण की कार्रवाई’ माना जाएगा.

रूस का यह बयान ऐसे समय में आया है जब अमरीकी विदेश मंत्री जॉन केरी सऊदी अरब में अरब देशों के नेताओं से मिल रहे हैं ताकि इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों के खिलाफ गठबंधन बनाया जा सके.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पहले ही इराक़ और सीरिया में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी दे दी है.

इस्लामिक स्टेट ने इराक और सीरिया मे कई इलाक़ों पर कब्ज़ा कर रखा है.

ओबामा की रणनीति

इस्लामिक स्टेट के खिलाफ अपनी रणनीति में ओबामा ने स्पष्ट किया कि कार्रवाई ऐसी हो कि उन्हें छुपने की कोई सुरक्षित जगह न मिले.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हालांकि उनके बयान पर रूस ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. रूस सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को लगातार मदद करता रहा है और संभवतः इसी कारण रूस ने ये टिप्पणी की है.

रूसी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना था, "अमरीकी राष्ट्रपति ने सीरिया में इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ अमरीकी बलों की सीधी कार्रवाई की संभावना की बात की है. इसमें सीरिया सरकार की सहमति का कोई ज़िक्र नहीं है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के समर्थन के बिना यह आक्रमण की कार्रवाई माना जाएगा.’’

सीरिया ने भी चेतावनी देते हुए कहा है कि अमरीका उसकी धरती पर किसी कार्रवाई से पहले सीरिया सरकार के साथ समन्वय स्थापित करे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार