'अलीबाबा' के खज़ाने में कहां से आता है सोना

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption अलीबाबा के संस्थापक जैक मा बेशक चीन के सबसे अमीर आदमी हैं

अलीबाबा शायद आज की कारोबारी दुनिया में वो नाम है जो शायद आपने सुना न हो.

चीन के इंटरनेट बाजार में इसके दबदबे के बावजूद विश्व स्तर पर ये कंपनी अभी तक ज़्यादा कामयाबी हासिल नहीं कर पाई है.

लेकिन अगले हफ़्ते इस कंपनी के न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में पहुंच जाने से तस्वीर बदल सकती है और इसका नाम भी फ़ेसबुक, अमेज़न और ईबे जैसी कंपनियों के साथ लिया जा सकता है.

अलीबाबा करता क्या है

इससे ज़्यादा आसान ये बताना है कि अलीबाबा क्या नहीं करता है.

वर्ष 1999 में जैक मा ने alibaba.com के नाम से अपना बिजनेस शुरू किया. ये वेबसाइट चीन (और अन्य देशों) के निर्यातकों को दुनिया भर में फैली 190 कंपनियों से जोड़ती है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इसकी मदद से ब्रिटेन में बैठा एक कारोबारी ये पता लगा सकता है कि चीन में उसके लिए कौन माल तैयार कर सकता है.

लेकिन अलीबाबा की वेबसाइट का सिर्फ़ यही काम नहीं है. अलीबाबा taobao.com भी चलाती है जो चीन की सबसे बड़ी शॉपिंग वेबसाइट है और इसकी एक अन्य वेबसाइट tmall.com चीन में उभरते हुए मध्यम वर्ग के लिए ब्रांडेड चीजें मुहैया कराती है.

अलीबाबा की पहुंच यही ख़त्म नहीं हो जाती है. ये एक ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम alipay.com भी चलाती है जो PayPal की तरह काम करता है.

चीन में ट्विटर जैसी सोशल मीडिया वेबसाइट सिना वाइबो में भी इसकी बड़ी हिस्सेदारी है. साथ ही यूट्यूब जैसे वीडियो शेयरिंग वेबसाइट Youku Tudou में भी इसकी अहम हिस्सेदारी है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

ये कंपनी ऑनलाइन मार्केटिंग, क्लाउड कंप्यूटिंग और लोजिस्ट सेवाएं भी मुहैया कराती है.

हाल ही में इसने चीन में सबसे कामयाब फुटबॉल क्लब क्वांज़ो एवरग्रांड में 50 फ़ीसदी हिस्सेदारी ख़रीदी है और फ़िल्म बिज़नेस में भी उसने दबदबा हासिल कर लिया है.

और अंत में अलीबाबा का इरादा बैकिंग के क्षेत्र में उतरने का भी है.

इसे इतनी कामयाबी कैसे मिली

अलीबाबा को जब 1999 में शुरू किया गया तो इसमें 18 लोग काम करते थे लेकिन अब दुनिया भर में इसके लिए 22 हज़ार लोग काम करते हैं और इंटरनेट से होने वाले कारोबार के एक बड़े हिस्से पर उसका नियंत्रण है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

चीन में होने वाले ऑनलाइन कारोबार के 80 प्रतिशत हिस्से पर अलीबाबा का क़ब्ज़ा है.

चीन में 60 करोड़ लोग इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं जबकि देश की आबादी एक अरब तीस करोड़ है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इसके मुकाबले अमरीका में 27.7 करोड़ और यूरोप में 54.6 करोड़ इंटरनेट यूजर्स हैं.

अलीबाबा ने तेज़ी से बढ़ रहे ऑनलाइन बाज़ार का इस्तेमाल स्मार्टफोन तकनीक में अपना दबदबा बढ़ाने के लिए किया है. अब चीन के 75 प्रतिशत मोबाइल बाज़ार पर इसी का नियंत्रण है.

रिसर्च संस्था फोरेस्टर का अनुमान है कि चीन में 2017 तक स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ कर 74 करोड़ हो जाएगी.

और अलीबाबा के लिए अच्छी ख़बर ये है कि ज़्यादा से ज़्यादा लोग अब उनके फ़ोन ख़रीद रहे हैं.

चीन की इंटरनेट सोसाइटी के अनुसार पैसों का ऑनलाइन लेन-देन 2015 तक बढ़ कर 1.45 ट्रिलियन डॉलर होने की उम्मीद है.

अलीबाबा पैसे कैसे बनाता है

ईबे के विपरीत अलीबाबा किसी तरह की लिस्टिंग फीस नहीं लेता है बल्कि इसकी ज़्यादातर आमदनी विभिन्न वेबसाइटों पर मिलने वाले विज्ञापनों से होती है.

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी नियामकों की तरफ़ से जारी ताजा जानकारी के अनुसार 27.9 करोड़ सक्रिय ख़रीददार और 85 लाख सक्रिय विक्रेता हर साल अलीबाबा की ऑनलाइन सेवाएं लेते हैं और इस तरह सालाना 14.5 अरब ऑर्डर दिए जाते हैं.

ऐसे में ये समझना मुश्किल नहीं है कि विज्ञापन देने वालों के लिए अलीबाबा की वेबसाइटें इतनी आकर्षक क्यों हैं.

चूंकि कंपनी ग्राहकों को कारोबारियों से जोड़ती है तो उसके लिए थोड़ा सा कमिशन भी लेती है. ऐसे में इस सिस्टम को काम करने के लिए किसी बड़े तामझाम या इंफ्रास्ट्रक्चर की जरूरत नहीं होती है.

दूसरी कंपनियों के मुकाबले कहां है

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑनलाइन शॉपिंग को मापने के लिए अकसर ग्रॉस मर्चेंडाइज़ वॉल्यूम (जीएमवी) का इस्तेमाल होता है. इसमें इस बात का हिसाब रखा जाता है कि कितना माल बिका.

अलीबाबा ने बताया कि इस साल जून तक उसने 296 अरब डॉलर का जीएमवी हासिल किया. ये पिछले ईबे जीवीएम का लगभग चार गुना है. अमेजन अपने जीवीएम आंकड़े प्रकाशित नहीं करती लेकिन उद्योग जगत का अनुमान है कि पिछले साल ये 100 अरब डॉलर रहा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इन सब शॉपिंग वेबसाइटों का राजस्व प्रत्येक ऑनलाइन सेल पर लगने वाली फ़ीस और परसेंटेज आता है. इस मामले में अलीबाबा दोनों बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों से पीछे है.

लेकिन अलीबाबा का आकर्षक बिज़नेस मॉडल बहुत से निवेशकों को आकर्षित कर रहा है.

कंपनी का ऑपरेटिंग मार्जिन यानी उसकी कुशलता अपने दोनों प्रतिद्वंद्वियों से कहीं ज्यादा है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

कंपनी का बॉस कौन है

हर कंपनी का बॉस न तो लेदर के कपड़े पहनेगा और न ही विग लगाएगा और न ही उसके होठों पर आप लिपस्टिक और नाक में छल्ला देखेंगे. जॉन एल्टन का गाना 'कैन यू फील द लव' गाते हुए भी आपको कम ही बॉस मिलेंगे.

लेकिन अलीबाबा के संस्थापक जैक मा ये सब करते हैं. और ये किया उन्होंने कंपनी की 10वीं वर्षगांठ पर.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मा ने ये कंपनी 1999 में 60 हजार डॉलर की राशि के साथ शुरू की जो उन्होंने दक्षिणी चीन में अपने 80 दोस्तों से जुटाई थी.

अब उनकी संपत्ति 22 अरब डॉलर बताई जाती है, ब्लूमबर्ग के मुताबिक़ कंपनी में उनकी हिस्सेदारी 7.3 प्रतिशत है.

जनवरी में मा ने घोषणा की कि वो कंपनी के मुख्य कार्यकारी का पद छोड़ रहे हैं और तब से कंपनी की ज़िम्मेदारी अलीबाबा के लंबे समय से कर्मचारी रहे जोनाथन लु चाओशी संभाल रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें क्लिक करें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार