यमन: पीएम का इस्तीफ़ा, सना में संघर्ष

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

यमन से मिल रही ख़बरों में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोहम्मद सलीम बसिंदवा ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

उन्होंने कहा है कि वो शिया हौथी विद्रोहियों और राष्ट्रपति अब्दरब्बु मंसूर हादी के बीच संभावित समझौते का रास्ता तैयार करने के लिए पद छोड़ रहे हैं ताकि कई दिनों से जारी लड़ाई को रोका जा सके.

उधर रविवार को राजधानी सना में हौथी विद्रोहियों और सरकारी बलों के बीच संघर्ष तेज़ हो गया.

वहां के हालात के बारे में स्थिति साफ़ नहीं है लेकिन विद्रोहियों के एक प्रवक्ता ने दावा किया है कि उन्होंने सरकारी मुख्यालयों और राष्ट्रीय प्रसारण इमारत को क़ब्ज़े में ले लिया है.

'तख़्तापलट की कोशिश'

रविवार को सना में कर्फ़्यू के बावजूद गोलाबारी की आवाज़ें आती रहीं.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption बसविंदा ने दिसंबर 2011 में प्रधानमंत्री का पद संभाला था

राष्ट्रपति हादी ने विद्रोहियों की कार्रवाई को 'तख़्तापलट की कोशिश' बताया है.

यमन में 2011 में सरकार विरोधी व्यापक प्रदर्शनों के बाद राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह को पद छोड़ना पड़ा था. तभी से यमन स्थिर नहीं हो पाया है.

हौथियों का संबंध अल्पसंख्यक ज़ैदी शिया समुदाय से है. वो 2004 से समय-समय पर ब़गावत करते रहे हैं. वो सना प्रांत में अपने लिए व्यापक स्वायत्तता चाहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के क्लिक करें एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार