यूएन में मोदी के भाषण की 10 ख़ास बातें

संयुक्त राष्ट्र में नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट Getty

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा को हिंदी में संबोधित किया.

मोदी के अब तक के भाषण की अहम बातें...

1- भारत ने पड़ोसी देशों से मित्रता की कोशिश की है. पाकिस्तान के साथ दोस्ती करने के लिए द्विपक्षीय वार्ता करना चाहते हैं. लेकिन पाकिस्तान का भी दायित्व है कि दोतरफ़ा बातचीत के लिए माहौल बनाए. संयुक्त राष्ट्र जैसे मंच पर कश्मीर का मुद्दा उठाने से समस्या कैसे सुलझेगी, इसको लेकर लोगों में संदेह है.

2- विश्व तनाव और संघर्ष के दौर से गुज़र रहा है. भविष्य को लेकर अनिश्चितता है. एशिया प्रशांत क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा चिंता का विषय है.

3- आतंकवाद बड़ी समस्या है. सभी देश आतंकवाद से जूझ रहे हैं. पश्चिम एशिया में आतंकवाद बढ़ रहा है. भारत चार दशकों से आतंकवाद से जूझ रहा है.

4- आज भी कई देश अपने क्षेत्र में आतंकवाद को पनाह दे रहे हैं. जब अच्छे और बुरे आतंकवाद की बात होती है तो इससे लड़ने की हमारे इरादों पर सवाल उठते हैं.

5- समुद्री आतंकवाद भी बड़ा ख़तरा है. साइबर आतंकवाद भी गंभीर समस्या है. आतंकवाद के खिलाफ़ कड़ा प्रस्ताव पारित होना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट United Nations

6- जी-1 से आगे बढ़कर जी-ऑल की तरफ बढ़ें. आपसी लाभ-हानि से ऊपर उठने की ज़रूरत है. वास्तविक अंतरराष्ट्रीय सहयोग ज़रूरी है.

7- स्वच्छता, पीने का पानी, बिजली मेरे एजेंडे में सबसे ऊपर हैं. रहने लायक और टिकाऊ विश्व की कामना के साथ काम होना चाहिए.

8- विकसित देशों को फ़ंडिंग और तकनीकी स्थानांतरण की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करना चाहिए.

9- भारत अपनी तकनीकी को साझा करने के लिए तैयार है. हाल ही में दक्षिण एशियाई देशों के लिए निशुल्क उपग्रह की घोषणा की है.

10- भारत में प्रकृति के प्रति आदर अध्यात्म का अंग है. योग व्यायाम नहीं है, बल्कि पुरातन और अमूल्य देन है. योग खुद से और दुनिया से जुड़ने का साधन है. संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित करे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार