आईएस लड़ाकों से ख़तरे को कम आंका: ओबामा

 इस्लामिक स्टेट के लड़ाके इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने एक टीवी इंटरव्यू में माना है कि अमरीकी सुरक्षा एजेंसियों ने सीरिया में इस्लामी विद्रोह के ख़तरे को कम करके आंका था.

उन्होंने कहा कि सुन्नी कबीलों की मदद से अमरीकी सुरक्षाबलों ने इराक़ में अल-क़ायदा को ख़त्म कर दिया था लेकिन सीरिया में जारी हालात का फायदा उठाया उठाते हुए चरमपंथियों ने खुद को मज़बूत करके आईएसआईएस बनाया जिसे अब आईएस के नाम से जाना जाता है.

सीबीएस टीवी के कार्यक्रम 60 मिनट्स में ओबामा ने कहा, "सीरिया उन चरमपंथियों के लिए 'ग्राउंड ज़ीरो' बन गया था जिन्होंने वहां फैली अफ़रातफ़री का फ़ायदा उठाया.''

इमेज कॉपीरइट AP

ओबामा ने कहा, "सीरियाई गृह युद्ध के दौरान जब अफ़रातफ़री फैली तब देश के बड़े हिस्सों में सरकार का असर नहीं था. चरमपंथियों ने फिर से एकजुट होकर हालात का फ़ायदा उठाया और विदेशी लड़ाकों को भी आकर्षित किया जो उनकी बेतुकी जिहादी बातों पर यक़ीन करते थे."

ओबामा ने फिर दोहराया कि सैन्य कार्रवाई चरमपंथियों को हराने की योजना का सिर्फ़ एक हिस्सा है और इसके लिए राजनैतिक हल भी ज़रूरी है.

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि इराक़ में सद्दाम हुसैन की पुरानी सेना के बचे हुए लोगों को अपने साथ मिलाकर जिहादियों ने अपनी सैन्य ताक़त बढ़ाई थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)