जहां रेड लाइट तोड़ने का मतलब है जेल

रेड लाइट, ट्रैफिक के नियम, शहरी यातायात इमेज कॉपीरइट Getty

दुनिया भर में सड़क पर गाड़ी चलाने के कुछ क़ायदे-क़ानून हैं. रेड लाइट तोड़ने की सूरत में हमने जुर्माना भरने की बात सुनी होगी. लेकिन सऊदी अरब में ड्राइवरों को रेड लाइट तोड़ने की सूरत में जेल जाना पड़ सकता है.

अरब न्यूज़ ने ट्रैफ़िक पुलिस के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि शहर के सीसीटीवी सिस्टम में रेड लाइट तोड़ने वाले जिन लोगों को पकड़ा जाएगा, वे 24 घंटे हवालात में गुज़ारने के बाद ही जुर्माना भर पाएंगे.

ब्रिगेडियर ज़ैद अल-हमज़ी ने अख़बार को बताया कि चौराहों पर ट्रैफ़िक के नियम तोड़ने वालों को पकड़ने के लिए सादी वर्दी में अधिकारी तैनात किए जाएंगे.

हवालात

अरब न्यूज़ का कहना है कि इस तरह के कड़े प्रावधानों को पूरे सऊदी अरब में लागू करने की योजना पर काम किया जा रहा है.

किराए पर कार देने वाली एक फ़र्म ने इस बात की पुष्टि की है कि ये नियम लागू किए जा रहे हैं. फ़र्म के एक प्रवक्ता ने बताया कि उनके कुछ क्लाइंट्स ट्रैफ़िक के नियम तोड़ने के लिए हवालात की हवा खा चुके हैं.

पिछले साल एक रिपोर्ट में कहा गया था कि सऊद अरब की सड़कें दुनिया की सबसे ख़तरनाक सड़कों में से एक हैं. यहां औसतन हर रोज़ 19 लोगों की मौत सड़क हादसों में होती है.

फ़तवा

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption सड़क हादसे दुनिया भर में एक गंभीर समस्या बन चुके हैं.

सऊदी में इस बात को कितनी गंभीरता से लिया जा रहा है, इसका अंदाज़ा इस बात से लगता है कि मौलवी अब्दुल अज़ीज़ अल-शेख ने हाल ही में लापरवाही से गाड़ी चलाने वालों पर फ़तवा देने की पेशकश की है.

अरब न्यूज़ ने सऊदी अरब के सबसे बड़े धर्म गुरु के हवाले से कहा है कि ख़तरनाक तरीक़े से गाड़ी चलाना 'पाप' है और इससे किसी की जान जा सकती है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार