इबोला: अमरीका भेजेगा नेशनल गार्ड के जवान

इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ज़रूरत पड़ने पर पश्चिम अफ्रीका में इबोला से निपटने लिए रिज़र्व और नेशनल गार्ड के जवानों को भेजने की अनुमति दे दी है.

इन जवानों की पहली तैनाती लाइबेरिया में इबोला के इलाज के लिए 17 केंद्रों का गठन करने में मदद करेगी.

लाइबेरिया इबोला से सबसे ज़्यादा प्रभावित देशों में से एक है.

इमेज कॉपीरइट Getty

रक्षा मंत्रालय में अधिकारियों का कहना है कि ओबामा का ये आदेश इन तैनातियों में तेज़ी लाने के लिए जरुरी था साथ ही इससे जरुरत पड़ने पर अतिरिक्त सेना भेजने में भी मदद मिलेगी.

इस बीच अमरीका में इबोला वायरस मामले सामने आने के बाद अमरीकी राजनीतिज्ञों ने वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारियों का आलोचना की है.

इमेज कॉपीरइट CDCP

इस मामले पर संसद की एक कमेटी में सुनवाई के दौरान टेक्सस अस्पताल के एक प्रमुख डॉक्टर डेनियल वरगा ने इबोला वायरस संक्रमित लाइबेरियाई व्यक्ति के इलाज के दौरान हुई गलतियों पर माफी मांगी है. इस व्यक्ति की बाद में मौत हो गई थी.

उधर इबोला वायरस ने अगले साल अफ्रीका में होने वाले अफ़्रीकी कप ऑफ़ नेशंस को अधर में लटका दिया है. ये फुटबॉल टूर्नामेंट मोरक्को में जनवरी महीने की 17 तारीख से शुरू होना था. लेकिन आयोजकों का कहना है कि वे इस टूर्नामेंट को स्थगित करना चाहते है. हालांकि इस बारे में नवंबर में फैसला लिया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार