कनाडा: गोलीबारी का सीसीटीवी फ़ुटेज जारी

कनाडा में गोलीबारी इमेज कॉपीरइट AFP

कनाडा में पुलिस ने बुधवार को हुई गोलीबारी का सीसीटीवी फ़ुटेज जारी किया है.

कनाडा के रॉयल कनेडियन माउंटेड पुलिस(आरसीएमपी) के आयुक्त बॉब पॉलसन ने गुरूवार को एक प्रेसवार्ता में ये वीडियो जारी किया.

बुधवार को एक बंदूक़धारी माइकल ज़िहाफ़ बेब्यू ने वॉर मेमोरियल में ड्यूटी पर तैनात एक निहत्थे सुरक्षाकर्मी को गोली मार दी थी और फिर उसके बाद पास ही मौजूद संसद भवन में घुसकर गोलीबारी की थी.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption वॉर मेमोरियल के पास लोग फूल भेंट करते हुए

संसद परिसर में सुरक्षाकर्मियों और बंदूक़धारी के बीच गोलीबारी में माइकल ज़िहाफ़ मारे गए थे. बाद में उस सुरक्षाकर्मी की भी मौत हो गई थी.

32 साल के माइकल ज़िहाफ़ बेब्यू कनाडाई नागरिक थे और कथित रूप से हाल ही में धर्म परिवर्तन कर मुसलमान बने थे.

'संदिग्ध सूचि में नाम नहीं'

कनाडा में तीन दिनों के अंदर ये दूसरा हमला था.

पुलिस आयुक्त के अनुसार माइकल ज़िहाफ़ का नाम 90 लोगों की उस सूचि में शामिल नहीं था जिन्हें कनाडाई सुरक्षा एजेंसी उच्च ख़तरे वाले संदिग्ध मानती है. पुलिस ने माइकल को एक मामूली अपराधी क़रार देते हुए कहा कि बुधवार की घटना उन्होंने अकेले ही अंजाम दी थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पहले इस तरह की ख़बरें आई थीं कि माइकल ज़िहाफ़ का नाम संदिग्धों की सूचि में था और पुलिस ने उनके पासपोर्ट को ज़ब्त कर रखा था.

लेकिन गुरूवार को पुलिस आयुक्त ने बताया कि माइकल के पास कनाडा और लीबिया की दोहरी नागरिकता हो सकती है. उनके अनुसार माइकल ने नए पासपोर्ट के लिए आवेदिन किया था और वो सीरिया जाना चाहते थे.

पुलिस ने ये भी साफ़ किया की इसी हफ़्ते क्यूबेक में एक सैनिक की हत्या और बुधवार की घटना में कोई संबंध नही था. पुलिस के अनुसार माइकल चरमपंथी विचारधारा से प्रभावित हो सकते हैं.

पुलिस का कहना है कि माइकल ज़िहाफ़ अपने पासपोर्ट के आवेदन के बारे में जानकारी लेने के लिए दो अक्तूबर को ओटावा आए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार